$icon = $this->mediaurl($this->icon['mediaID']); $thumb = $this->mediaurl($this->icon['mediaID'],350,350); ?>
अलाउद्दीन बुरूजेर्दी:

सऊदी अरब में शेख निम्र की फांसी से अशांति और नया संकट आरंभ होगा।

  • News Code : 717062
  • Source : एरिब.आई आर
Brief

ईरान की संसद में विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा आयोग के प्रमुख अलाउद्दीन बुरूजर्दी ने कहा है कि सऊदी अरब के वरिष्ठ धर्मगुरू की फांसी की सज़ा पर अमल करने से सऊदी अरब के शिया बाहुल्य क्षेत्रों में अशांति उत्पन्न होगी जिससे संकट का नया अध्याय खुल जाएगा।

ईरान की संसद में विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा आयोग के प्रमुख अलाउद्दीन बुरूजर्दी ने कहा है कि सऊदी अरब के वरिष्ठ धर्मगुरू की फांसी की सज़ा पर अमल करने से सऊदी अरब के शिया बाहुल्य क्षेत्रों में अशांति उत्पन्न होगी जिससे संकट का नया अध्याय खुल जाएगा।
उन्होंने सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए सऊदी अरब के वरिष्ठ धर्मगुरू शैख़ बाक़िर निम्र की फांसी की सज़ा का आदेश जारी किए जाने की ओर संकेत करते हुए कहा कि इस देश ने आम जनमत को दिशा देने की दृष्टि से इस समय इस प्रकार का फ़ैसला किया है। उन्होंने बल दिया कि शैख़ बाक़िर निम्र की सज़ाए मौत का मुद्दा बहुत गंभीर है और इस वरिष्ठ धर्मगुरू की सज़ा से धर्मगुरूओं का सम्मान समाप्त हो जाएगा।  बोरोजर्दी ने कहा कि साथ ही इस सज़ा से सऊदी अरब के शिया बाहुल्य क्षेत्रों में अशांति और संकट का जो नया अध्याय खुलेगा वह निश्चित रूप से सऊदी अरब की सरकार के हित में नहीं होगा।
ईरान की संसद में विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा आयोग के प्रमुख ने यमन पर सऊदी अरब की सैन्य चढ़ाई की ओर संकेत करते हुए कहा कि इस बात के दृष्टिगत कि यमन पर सैन्य चढ़ाई में सऊदी अरब को सेना और स्वयंसेवी बलों के सामने बहुत जानी व माली नुक़सान उठाना पड़ा है, यह उसी ग़लत निर्णय का परिणाम है जो उसने यमन पर सैन्य चढ़ाई के लिए लिया था और अब यह बात भी पूरी तरह स्पष्ट हो गई है कि यमन युद्ध, सऊदी अरब की पराजय के साथ ही समाप्त होगा।
ज्ञात रहे कि सऊदी अरब के उच्चतम न्यायालय ने रविवार को इस देश के वरिष्ठ धर्मगुरू शैख़ बाक़िर निम्र की फ़ांसी की सज़ा की पुष्टि कर दी है और अब इस सज़ा के क्रियान्वयन के लिए सऊदी नरेश की अनुमति की ज़रूरत है। शैख़ बाक़िर निम्र को सऊदी अरब के पूर्वी शहर अलक़तीफ़ में फ़रवरी 2011 में व्यापक स्तर पर सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद गिरफ़्तार किया गया था।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*