$icon = $this->mediaurl($this->icon['mediaID']); $thumb = $this->mediaurl($this->icon['mediaID'],350,350); ?>

ग़ज़्ज़ा पट्टी पर इस्राइली युद्धक विमानों का हमला।

  • News Code : 693669
  • Source : एरिब.आई आर
Brief

वर्षों से इस्राईल की ओर से नाकाबंदी से घिरे ग़ज़्ज़ा पट्टी पर ज़ायोनी युद्धक विमानों ने हवाई हमले किए।

वर्षों से इस्राईल की ओर से नाकाबंदी से घिरे ग़ज़्ज़ा पट्टी पर ज़ायोनी युद्धक विमानों ने हवाई हमले किए।
प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार, इस्राइली युद्धिक विमानों ने दक्षिणी इस्राईल पर कथित तौर पर रॉकेट के हमले के जवाब में गुरुवार सुबह ग़ज़्ज़ा पट्टी के कई इलाक़ों पर हमले किए। बुधवार को ज़ायोनी सेना ने दावा किया कि ग़ज़्ज़ा से नेगेव इलाक़े पर दो रॉकेट फ़ायर किए गए।
फ़िलिस्तीनी प्रतिरोध आंदोलन हमास ने कहा कि रॉकेट का यह हमला आईएसआईएल से जुड़े एक सलफ़ी गुट ने किया है। ग़ज़्ज़ा पर इस्राईल के हवाई हमले के बाद ग़ज़्ज़ा के क़रीब में एक धमाके की आवाज़ सुनायी दी। हालांकि फ़िलिस्तीनी सूत्रों का कहना था कि यह धमाका ज़ायोनी शासन के हवाले हमले के कारण नहीं हुआ था। ज़ायोनी युद्धिक विमानों के ग़ज़्ज़ा पर हवाई हमले में किसी संभावित जानी व माली नुक़सान की कोई रिपोर्ट अब तक नहीं आयी है। पिछले हफ़्ते ग़ज़्ज़ा पट्टी के केन्द्र में नुसैरात शरणार्थी कैंप पर ज़ायोनी युद्धक विमानों ने हमला किया था। इसी प्रकार बैत लाहिया पर भी ज़ायोनी युद्धक विमानों ने हमला किया था।
ज्ञात रहे जुलाई 2014 में ग़ज़्ज़ा पट्टी पर इस्राईल के थोपे गए 50 दिवसीय युद्ध में 2140 फ़िलिस्तीनी शहीद हुए थे जिसमें 557 बच्चे थे। ग़ज़्ज़ा की इस्राईल ने 2007 से नाकाबंदी कर रखी है। दूसरी ओर फ़िलिस्तीनियों पर अत्याचार के कारण ज़ायोनी शासन के बहिष्कार के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जारी बी डी एस अभियान के प्रभाव को अब ख़ुद इस्राइली प्रधान मंत्री भी मानने लगे हैं। ज़ायोनी प्रधान मंत्री बिनयामिन नेतनयाहू का कहना है कि तेल अविव अंतर्राष्ट्रीय अभियान बी डी एस के कारण ख़तरे में पड़ता जा रहा है। नेतनयाहू ने रविवार को अपने मंत्रीमंडल की बैठक में यह बात कही है।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*