पाकिस्तान को जेहाद कल्चर और रक्तपात द्वारा मुक्ति मिल सकती है

  • News Code : 653308
  • Source : एरिब.आई आर
Brief

पाकिस्तान के शहर लाहौर में एक समारोह को संबोधित करते हुए मुनव्वर हुसैन ने कहा कि वह डंके की चोट पर यह कहते हैं कि देश में वर्तमान स्थिति पर केवल तथाकथित जेहाद कल्चर और रक्तपात द्वारा ही क़ाबू पाया जा सकता है।

आतंकवाद और चरमपंथ से जूझ रहे पाकिस्तान में जमाते इस्लामी पार्टी के पूर्व प्रमुख मुनव्वर हुसैन ने कहा है कि देश में जारी स्थिति पर राजनीतिक एवं लोकतांत्रिक ढंग से क़ाबू नहीं पाया जा सकता बल्कि देश में तथाकथित जेहाद और रक्तपात की संस्कृति को बढ़ावा देने की ज़रूरत है।
पाकिस्तान के शहर लाहौर में एक समारोह को संबोधित करते हुए मुनव्वर हुसैन ने कहा कि वह डंके की चोट पर यह कहते हैं कि देश में वर्तमान स्थिति पर केवल तथाकथित जेहाद कल्चर और रक्तपात द्वारा ही क़ाबू पाया जा सकता है।
उन्होंने कहा कि जेहाद का शब्द लोगों के ज़हनों से दूर होता जा रहा है और इसे आतंकवाद से जोड़ दिया गया है, और लोग इसके प्रयोग से भयभीत हैं।
उन्होंने यह भी कहा कि जेहाद और रक्तपात के बाद जब स्थिति सामान्य हो जाएगी तो राजनीतिक एवं लोकतांत्रिक व्यवस्था प्रासंगिक हो सकेगी।
दूसरी ओर पाकिस्तान के अन्य राजनीतिक दलों ने मुनव्वर हुसैन के इस बयान की कड़ी आलोचना की है। एमक्यूएम ने अपने एक बयान में कहा है कि पाकिस्तान को इस समय शांति एवं स्थिरता की बहुत ज़रूरत है, इसके बावजूद मुनव्वर हुसैन जैसे लोग युवाओं को रक्तपात के लिए प्रेरित कर रहे हैं।
पार्टी की जन संपर्क समिति की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जमाते इस्लामी के पूर्व प्रमुख के इस बयान से इस पार्टी के चेहरा बेनक़ाब हो गया है। और अब किसी के लिए भी यह समझना कठिन नहीं है कि पाकिस्तान में तकफ़ीरी आतंकवादी गुट आईएसआईएल का प्रतिनिधित्व कौन कर रहा है और कौन आईएसआईएल के विचारों का प्रचार प्रसार कर रहा है।
पाकिस्तान सूचना प्रसारण मंत्री परवेज़ रशीद ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा है कि उन्हें मुनव्वर हुसैन के बयान पर दुख है लेकिन यह जमाते इस्लामी का पक्ष नहीं हो सकता, बल्कि यह उनके निजी विचार हो सकते हैं।
वहीं पाकिस्तान पीपल्स पार्टी की नेता शर्मीला फ़ारूक़ी ने मुनव्वर हुसैन के बयान की निंदा करते हुए कहा है कि मुनव्वर हुसैन ने जमाते इस्लामी के विचारों को ही स्पष्ट किया है, क्योंकि पूर्व में भी इस दल की ओर से इस तरह के बयान आते रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि यह वही मुनव्वर हुसैन हैं जिन्होंने गत वर्ष जमाते इस्लामी का नेतृत्व करते हुए पाकिस्तान तालिबान के पूर्व प्रमुख हकीमुल्लाह महसूद के मारे जाने पर उसे शहीद ठहराया था।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
We are All Zakzaky
सेंचुरी डील स्वीकार नहीं