रूस, ने सऊदी प्रस्ताव को फिर रद्द कर दिया

  • News Code : 656429
  • Source : एरिब.आई आर
Brief

मध्यपूर्व के मामले में रूसी राष्ट्रपति के विशेष दूत मीख़ाइल बोग़दानोफ़ का कहना है कि मास्को ने एक फिर सीरिया की सत्ता से बश्शार असद को हटाने के प्रस्ताव को रद्द कर दिया है।

मध्यपूर्व के मामले में रूसी राष्ट्रपति के विशेष दूत मीख़ाइल बोग़दानोफ़ का कहना है कि मास्को ने एक फिर सीरिया की सत्ता से बश्शार असद को हटाने के प्रस्ताव को रद्द कर दिया है।
प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार, सीरिया संकट को समाप्त करने के लिए एक प्रस्ताव पेश किया गया है जिसमें राष्ट्रपति बश्शार असद के बदले किसी दूसरे अलवी समुदाय के नेता को देश की बागडोर हवाले किए जाने की बात कही गयी है। लेबनानी समाचार पत्र अलअख़बार ने अपने शनिवार के संस्करण में बोग़दानोफ़ के हवाले से लिखा कि हम सीरया के संबंध में वाशिंग्टन के संपर्क में हैं। उनका कहना था कि हमने यह खुलकर घोषणा कर दी है कि सीरिया संकट के समाधान के लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों को सामने आना चाहिए और वार्ता करनी चाहिए। उनका कहना था कि समस्या यहीं पर पैदा होती है, सत्ता पक्ष कौन है और विपक्ष कौन है। उनका कहना था कि सीरिया के विपक्ष के बारे में हमारी नीतियां स्पष्ट हैं, हमारे निकट विपक्ष वह है जिसके हाथ सीरिया की जनता के ख़ून से रंगे हुए न हों, सीरिया के नागरिक हों और शांतिपूर्ण ढग से अपनी मांग पेश करते हों। मध्यपूर्व के मामले में पुतीन के विशेष राजदूत का कहना था कि हमने कई बार सीरिया के विपक्षी दलों का मास्को में स्वागत किया।
बोग़दानोफ़ का कहना था कि हमारे कुछ क्षेत्रीय मित्रों ने सीरिया के नये विपक्ष को पेश करने का प्रयास किया जिनमें से कुछ चरपंथियों के समर्थक हैं, तब हमने इन सब को रद्द कर दिया। उनका कहना था कि हमने सीरिया की जनता और सरकार का समर्थन करने का संकल्प कर रखा है। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब ने बश्शार असद की सरकार का तख़्ता उलटने का सुझाव दिया, उन्होंने कहा कि हमें कोई समस्या नहीं है कि बश्शार असद के स्थान पर किसी अन्य अलवी समुदाय के नेता को सत्ता की बागडोर दे दी जाए, महत्त्वपूर्ण असद का सत्ता से बेदख़ल होना है। उन्होंने कहा कि हमने इस तर्क को रद्द कर दिया।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
We are All Zakzaky
सेंचुरी डील स्वीकार नहीं