अम्मार हकीम:

तकफ़ीरी व वहाबी विचारधारा को जड़ से उखाड़ फेकने की ज़रूरत।

  • News Code : 786820
  • Source : अबना
Brief

अम्मार हकीम ने जोर देकर कहा कि जितनी तैयारी मूसेल की स्वतंत्रता के लिए की गई है उतनी तैयारी किसी भी सैन्य अभियानों के लिए नहीं की गई थी...................

अहलेबैत न्यूज़ एजेंसी अबना: इस्लामी इंक़ेलाब के सुप्रीम लीडर के विशेष सलाहकार अली अकबर विलायती ने इराक़ में इस्लामी जागरूकता की इंटर-नेशनल असेंबली की बैठक के अवसर पर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि इस बैठक में इस्लामी दुनिया के बाईस देश हिस्सा ले रहे हैं जो मुसलमानों के बीच एकता का खुला सबूत है। उन्होंने कहा कि इस मंच के माध्यम से इस्लामी दुनिया के एक बड़े मुद्दे यानी चरमपंथी विचारधारा को खत्म किया जा सकता है। इस अवसर पर इराक की इस्लामी उच्च परिषद के प्रमुख अम्मार हकीम ने कहा कि इस्लामी जागरूकता की -नेशनल असेंबली में अहले सुन्नत और शिया के उलमा की बड़ी संख्या शामिल होगी और इस दौरान इस्लामी दुनिया की ताज़ा स्थिति की समीक्षा की जाएगी। उन्होंने कहा कि विधानसभा का गठन सुप्रीम लीडर हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई के फैसले के अंतर्गत संभव हो सका है। इस अवसर पर उन्होंने इराक में आईएस के अंतिम ठिकाने, मूसेल की ओर बढ़ती इराकी सेना की ओर इशारा करते हुए कहा कि आतंकवादियों को नई नई रणनीतियों का सामना करना पड़ेगा। सैयद अम्मार हकीम ने कहा कि आईएस के आतंकवादी, इराकी सुरक्षा बलों टैकटिक का अनुमान तक नहीं लगा सकते। उन्होंने कहा कि इराकी सेना की कमान ने इस बात पर बल दिया है कि मूसेल की स्वतंत्रता की लड़ाई में आम लोगों को कम से कम नुकसान पहुंचना चाहिए। इस्लामी उच्च परिषद के प्रमुख सैयद अम्मार हकीम ने जोर देकर कहा कि जितनी तैयारी मूसेल की स्वतंत्रता के लिए की गई है उतनी तैयारी किसी भी सैन्य अभियानों के लिए नहीं की गई थी।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
We are All Zakzaky
सेंचुरी डील स्वीकार नहीं