दाइश को कठिन आर्थिक संकट का सामना।

  • News Code : 737886
  • Source : एरिब.आई आर
Brief

इराक और सीरिया में निरंतर मिलने वाली पराजय और आतंकवादी गुट दाइश के कुछ तत्वों के पीछे हट जाने के बाद इस समय दाइश को कठिन आर्थिक संकट का सामना हो गया है।

इराक और सीरिया में निरंतर मिलने वाली पराजय और आतंकवादी गुट दाइश के कुछ तत्वों के पीछे हट जाने के बाद इस समय दाइश को कठिन आर्थिक संकट का सामना हो गया है।
अलआलम की साइट के अनुसार पिछले सप्ताह पश्चिमी संचार माध्यमों ने घोषणा की है कि दाइश ने आर्थिक संकट के कारण इराक और सीरिया में अपने लड़ाकों के वेतन को कम कर दिया है और 500 डालर लेकर बंदी परिजनों को स्वतंत्र कर रहा है।
इसी मध्य ब्रिटिश समाचार पत्र टाइम्स ने रहस्योघाटन किया है कि नये वर्ष के आरंभ से दाइश के लड़ाकों की संख्या में असाधारण कमी हो गयी है और उनकी संख्या 20 प्रतिशत यानी 25 से 30 हज़ार तक पहुंच गयी हैं। इस रिपोर्ट के अनुसार दाइश ने सीरिया में जिन इलाक़ों पर कब्ज़ा कर रखा था उसमें से 10 प्रतिशत और इराक में जिन क्षेत्रों पर नियंत्रण कर रखा था उसमें से 40 प्रतिशत इलाक़े उसके कब्ज़े से निकल गये और वह बच्चों के प्रयोग के लिए विवश हो गया है।
इसी मध्य दाइश के दो कमांडरों ने स्वीकार किया है कि पैसा कमाने के लिए उन्होंने दाइश की सदस्यता ग्रहण की है। दाइश के दो पूर्व कमांडरों ने एक अमेरिकी संचार माध्यम से वार्ता में कहा है कि उन्होंने पैसे के लिए इस गुट की सदस्यता ग्रहण की थी। दाइश के यह दोनों कमांडर पहले तालेबान के सदस्य थे। उन्होंने अमेरिकी संचार माध्यम से वार्ता में कहा कि सीरिया और इराक में दाइश ने उनमें से किसी से कोई संपंक नहीं किया और उनसे किसी काम का आह्वान किये बिना प्रतिमाह 10 हज़ार पाकिस्तान रूपया दिया जाता था।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

*शहादत स्पेशल इश्यू*  शहीद जनरल क़ासिम सुलैमानी व अबू महदी अल-मुहंदिस
conference-abu-talib
We are All Zakzaky