$icon = $this->mediaurl($this->icon['mediaID']); $thumb = $this->mediaurl($this->icon['mediaID'],350,350); ?>

इस्लामी जेहाद की समस्त गुटों व सैन्य ईकाइयों से इस्राईल के विरुद्ध एकजुट होने की अपील

  • News Code : 703674
  • Source : एरिब.आई आर
Brief

इस्राईल के अतिग्रहण में मौजूद पश्चिमी तट में बसाए गए ज़ायोनियों के हाथों, एक घर पर आगज़नी के हमले में, दूध पीते फ़िलिस्तीनी बच्चे की मौत के मद्देनज़र, फ़िलिस्तीनी प्रतिरोध आंदोलन इस्लामी जेहाद ने सभी धड़ों से इस्राईल के ख़िलाफ़ अधिक सक्रिय रूप में संघर्ष जारी रखने की अपील की है।

इस्राईल के अतिग्रहण में मौजूद पश्चिमी तट में बसाए गए ज़ायोनियों के हाथों, एक घर पर आगज़नी के हमले में, दूध पीते फ़िलिस्तीनी बच्चे की मौत के मद्देनज़र, फ़िलिस्तीनी प्रतिरोध आंदोलन इस्लामी जेहाद ने सभी धड़ों से इस्राईल के ख़िलाफ़ अधिक सक्रिय रूप में संघर्ष जारी रखने की अपील की है।
शनिवार को इस्लामी जेहाद की ओर से जारी बयान में, इस संगठन के महासचिव रमज़ान शलह ने सभी प्रतिरोधी गुटों और सैन्य इकाइयों ख़ास तौर पर क़ुद्स ब्रिगेड से इस्राईल के इस जघन्य अपराध का जवाब देने की अपील की है।
18 महीने के बच्चे अली सअद दवाब्शा के परिजनों को संबोधित करते हुए, रमज़ान शलह ने कहा कि हमे यह ख़बर सुन कर बहुत दुख हुआ कि बसाए गए ज़ायोनियों ने आप, फ़िलिस्तीनी जनता और मानवता के ख़िलाफ़ अपराध किया। उन्होंने कहा कि इस अपराध से फ़िलिस्तीनी जनता के ख़िलाफ़ बसाए गए ज़ायोनियों के मन में नफ़रत व बर्बरता का पता चलता है। इस्लामी हेजाद आंदोलन के महासचिव ने कहा कि इस्राईल के अतिग्रहित क्षेत्रों में फ़िलिस्तीन की पहचान को मिटाने की लगातार कोशिश के कारण फ़िलिस्तीनियों को एकजुट हो जाना चाहिए और अपनी ज़मीन और जनता की रक्षा के लिए लड़ना चाहिए।
ज्ञात रहे शुक्रवार को पश्चिमी तट के नाबलुस शहर से 25 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में स्थित दूमा क़स्बे में बसाए गए ज़ायोनियों ने, फ़िलिस्तीनियों के घरों को पेट्रोल बम से आग लगा दी जिसमें एक फ़िलिस्तीनी बच्चा ज़िन्दा जल कर मर गया। शहीद होने वाले इस फ़िलिस्तीनी बच्चे का नाम अली साद दवाब्शा बताया गया है। इस बच्चे के मां-बाप ने बताया कि अली दवाब्शा का 4 साल का भाई भी पेट्रोल बम के हमले में घायल हुआ है।
स्थानीय लोगों के अनुसार, अली दवाब्शा के मां बाप ने उसे घर से निकालने की कोशिश की मगर वह अपने बच्चे को न बचा सके। बसाए गए ज़ायोनियों ने कई घरों को आग लगायी थी लेकिन बाक़ी घरों में उस वक़्त लोग मौजूद नहीं थे। इस हमले में अली दवाब्शा की मां रिहाम दवाब्शा का शरीर 90 फ़ीसद जल गया है और उनकी हालत गंभीर बनी हुयी है।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*