क़ुरआनी प्रतियोगिताओं के मैनेजर की अबना के साथ बातचीत।

ईरान विरोधी प्रोपगंडों के बावजूद मिस्र के क़ारियों ने क़ुरआन प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

  • News Code : 690775
  • Source : अबना
Brief

हुज्जतुल इस्लाम सैयद मुस्तफा हुसैनी ने कहा: इन प्रतियोगिताओं में जो 15 मई से पहली जून तक जारी हैं 61 हाफ़िज़ और 71 क़ारी हिस्सा लेंगे।

अहलेबैत (अ) समाचार एजेंसी अबना। ईरान की राजधानी तेहरान में आयोजित बत्तीसवीं अंतर्राष्ट्रीय क़ुरआन प्रतियोगिताओं के प्रमुख ने इन मुकाबलों में इस साल भाग लेने वाले देशों की संख्या में हुई वृद्धि की ओर इशारा करते हुए कहा: पिछले साल 71देशों ने भाग लिया जबकि इस बार 85देशों से 132लोगों ने अंतरराष्ट्रीय क़ुरआन प्रतियोगिताओं में भाग लिया है।

हुज्जतुल इस्लाम सैयद मुस्तफा हुसैनी ने कहा: इन प्रतियोगिताओं में जो 15 मई से 23 मई तक जारी रहेंगे 61 हाफ़िज़ और 71 क़ारी हिस्सा लेंगे जबकि प्रतियोगिताओं के बीच विभिन्न कार्यक्रम जैसे क़ुरआनी किताबों की प्रदर्शनी,सांस्कृतिक सेवाएं देने वाले मंडप और दर्शकों के लिएभी विशेष कार्यक्रम मौजूद हैं।

तेहरान के वक़्फ बोर्ड के क़ुरआनी मामलों के प्रमुख ने अबना संवाददाता से बातचीत में कहा: इस साल जबकि इस्लाम ख़ास तौर पर ईरान के खिलाफ दुनिया में नकारात्मक प्रोपगंडे चरम पर पहुंच चुके हैं। दुनिया के 85देशों से कारियों व क़ुरआन के हाफ़िज़ों ने शिरकत की है,विशेष रूप से मिस्र के कारियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया है जबकि मिस्र में ईरान के खिलाफ बहुत ज्यादा कुप्रचार हो रहा है।

अहलेबैत (अ) समाचार एजेंसी अबना। ईरान की राजधानी तेहरान में आयोजित बत्तीसवीं अंतर्राष्ट्रीय क़ुरआन प्रतियोगिताओं के प्रमुख ने इन मुकाबलों में इस साल भाग लेने वाले देशों की संख्या में हुई वृद्धि की ओर इशारा करते हुए कहा: पिछले साल 71 देशों ने भाग लिया जबकि इस बार 85 देशों से 132 लोगों ने अंतरराष्ट्रीय क़ुरआन प्रतियोगिताओं में भाग लिया है।

हुज्जतुल इस्लाम सैयद मुस्तफा हुसैनी ने कहा: इन प्रतियोगिताओं में जो 15 मई से 23 मई तक जारी रहेंगे 61 हाफ़िज़ और 71 क़ारी हिस्सा लेंगे जबकि प्रतियोगिताओं के बीच विभिन्न कार्यक्रम जैसे क़ुरआनी किताबों की प्रदर्शनी, सांस्कृतिक सेवाएं देने वाले मंडप और दर्शकों के लिए भी विशेष कार्यक्रम मौजूद हैं।

तेहरान के वक़्फ बोर्ड के क़ुरआनी मामलों के प्रमुख ने अबना संवाददाता से बातचीत में कहा: इस साल जबकि इस्लाम ख़ास तौर पर ईरान के खिलाफ दुनिया में नकारात्मक प्रोपगंडे चरम पर पहुंच चुके हैं। दुनिया के 85 देशों से कारियों व क़ुरआन के हाफ़िज़ों ने शिरकत की है, विशेष रूप से मिस्र के कारियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया है जबकि मिस्र में ईरान के खिलाफ बहुत ज्यादा कुप्रचार हो रहा है।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

*शहादत स्पेशल इश्यू*  शहीद जनरल क़ासिम सुलैमानी व अबू महदी अल-मुहंदिस
conference-abu-talib
We are All Zakzaky
सेंचुरी डील स्वीकार नहीं