उल्माए हिंद ने किया तेहरान में मस्जिद गिराए जाने की ख़बर का खंडन।

  • News Code : 703800
  • Source : एरिब.आई आर
Brief

भारत में मुस्लिम धर्मगुरूओं की सबसे बड़ी परिषद मजलिसे उलमाए हिंद ने ईरान की राजधानी तेहरान में किसी भी मस्जिद की शहादत की ख़बर का खंडन करते हुए ऐसी किसी भी ख़बर को अफ़वाह बताया है।

भारत में मुस्लिम धर्मगुरूओं की सबसे बड़ी परिषद मजलिसे उलमाए हिंद ने ईरान की राजधानी तेहरान में किसी भी मस्जिद की शहादत की ख़बर का खंडन करते हुए ऐसी किसी भी ख़बर को अफ़वाह बताया है।
भारत के राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मजलिसे उलमाए हिंद की एक अपातकालीन बैठक हुई, जिसमें देश के कुछ समाचार पत्रों द्वारा तेहरान में अहले सुन्नत मुसलमानों की मस्जिद ध्वस्त किए जाने की ख़बर के प्रकाशित किए जाने के मामले पर चर्चा की गयी।
मजलिसे उलमाए हिंद की सात सदस्यीय उलमा कमेटी ने समाचार पत्रों में प्रकाशित उस ख़बर को अफ़वाह बताया जिसमें कहा गया है कि ईरान की राजधानी तेहरान में अहले सुन्नत मुसलमानों की एक मस्जिद को ध्वस्त कर दिया गया है।
मजलिसे उलमाए हिंद की बैठक में शामिल भारत के वरिष्ठ धर्मगुरूओं ने ऐसी अफवाहें फैलाने वालों की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि ऐसी अफवाहें सऊदी और इस्राईली एजेंट ही फैलाते हैं ।
मजलिसे उलमाए हिंद की ओर से जारी बयान में यह कहा गया है कि तेहरान में अहले सुनन्त की किसी मस्जिद को ध्वस्त नहीं किया गया है और इस्लामी गणतंत्र ईरान सरकार को बदनाम करने के लिए अफ़वाह फैलाई जा रही है, जबकि सच्चाई यह है कि ऐसा कुछ भी नही हुआ है। बैठक मे शामिल सभी धर्मगुरूओं ने ऐसे निराधार समाचारों और अफ़वाहों पर बयानबाज़ी करने वालों की भी कड़े शब्दों में निंदा की है और कहा है कि ये लोग उस समय कहां थे जब बहरैन में 40 से अधिक मस्जिदों को शहीद कया गया और सऊदी अरब में प्राचीन मस्जिदों को ध्वस्त किया गया और यमन में लगातार मस्जिदों पर बम बरसाए जा रहे हैं।
मजलिसे उलमाए हिंद ने बयानबाज़ी करने वाले लोगों से प्रश्न किया कि जब सऊदी अरब में मस्जिदे रद्दे शम्स, मस्जिदे हज़रत बिलाल, मस्जिदे हज़रत सलमान फ़ारसी को शहीद किया गया था तब वे लोग कहां थे और किसी ने भी कोई बयान नहीं दिया था। बैठक में शामिल धर्मगुरूओं ने कहा कि ऐसे लोग इस्राईल और सऊदी अरब के इशारे और इस्लामी गणतंत्र ईरान की दुश्मनी में ग़लत और निराधार ख़बरों पर बयानबाज़ी करने के लिए सामने आ जाते  हैं।
लखनऊ में मजलिसे उलमाए हिंद की आयोजित बैठक में मौलाना रज़ा हुसैन, मौलाना तसनीम मेहदी, मौलाना इफ़्तेख़ार इंक़ेलाबी, मौलाना फिरोज़ हुसैन, मौलाना हसन जाफर, मौलाना शबाब हैदर और अन्य मुस्लिम धर्मगुरूओं ने भाग लिया।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

پیام رهبر انقلاب به مسلمانان جهان به مناسبت حج 1440 / 2019
conference-abu-talib
We are All Zakzaky