भारत और अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति ईरान की यात्रा पर आ रहे हैं।

  • News Code : 755563
  • Source : तेहरान रेडियो
Brief

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ़ ग़नी आज तेहरान की यात्रा पर आ रहे हैं जबकि सोमवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ईरान की यात्रा पर आ रहे हैं।

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ़ ग़नी आज तेहरान की यात्रा पर आ रहे हैं जबकि सोमवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ईरान की यात्रा पर आ रहे हैं।
दूसरे शब्दों में तेहरान सोमवार को अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति और भारत के प्रधानमंत्री का मेज़बान होगा और तीनों देशों के नेता और अधिकारी द्विपक्षीय संबंधों को मज़बूत करने और क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय परिवर्तनों के बारे में विचार- विमर्श करेंगे। इसी प्रकार तीनों देशों के नेता व अधिकारी आतंकवाद से मुकाबले के बारे में भी विचारों का आदान- प्रदान करेंगे। तीनों देशों के अधिकारी इसी प्रकार ईरान के चाबहार बंदरगाह के संबंध में त्रिपक्षीय समझौते को भी अंतिम रूप देंगे। परमाणु समझौते के लागू होने के बाद आठ राष्ट्रपति, पांच प्रधानमंत्री, तीन संसद सभापति और 14 विदेशमंत्री राजनीतिक और व्यापारिक संबंधों को मज़बूत करने के उद्देश्य से तेहरान आ चुके हैं। आशा की जा रही है कि भारत और अफ़ग़ानिस्तान के नेताओं की ईरान यात्रा से तीनों देशों के संबंधों में नये अध्याय का आरंभ होगा। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र ने भी तेहरान आने से पहले कहा है कि ईरान और भारत के संबंधों में नया अध्याय का आरंभ होगा।
भारत के प्रधानमंत्री की इस यात्रा का विशेष महत्व है क्योंकि इससे जहां ईरान- भारत आर्थिक सहयोग में विस्तार होगा वहीं चाबहार बंदरगाह की केन्द्रीयता में ईरान- भारत- अफ़ग़ानिस्तान व्यापारिक लेनदेन में भी इसका विशेष महत्व है। चाबहार बंदरगाह विकसित हो जाती है तो अफ़ग़ान व्यापारियों के लिए एक नया रास्ता खुल जाएगा और वह पाकिस्तान की कराची बंदरगाह तक सीमित नहीं रहेंगे।
ईरान में शांति व सुरक्षा का वातावरण भारत के लिए विशेष रूचि का विषय है क्योंकि यह रास्ता उसे मध्य एशिया और अफ़ग़ानिस्तान तक सुरक्षित पहुंच उपलब्ध करा सकता है। भारत चाबहार बंदरगाह के अलावा भी तेल, गैस, पेट्रोकेमिकल तथा रासायनिक खाद के क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाना चाहता है।
ईरान और भारत क्षेत्र के दो महत्वपूर्ण देश हैं और संयुक्त क्षेत्रीय व अंतर्राष्ट्रीय हित रखते हैं अतः यह देश आपसी सहयोग में विस्तार करके वर्तमान वैश्विक परिस्थितियों में बहुत प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

*शहादत स्पेशल इश्यू*  शहीद जनरल क़ासिम सुलैमानी व अबू महदी अल-मुहंदिस
conference-abu-talib
We are All Zakzaky