$icon = $this->mediaurl($this->icon['mediaID']); $thumb = $this->mediaurl($this->icon['mediaID'],350,350); ?>

बहरैन में विरोधियों को मौत की सज़ा पर ह्यूमन राइट्स वॉच ने चेतावनी दी।

  • News Code : 806856
  • Source : विलायत पोर्टल
Brief

ह्यूमन राइट्स वॉच ने चेताया है कि बहरैनी सरकार दो और लोगो को दिखावटी अदालती कार्यवाही के बाद मृत्यु दंड दे सकती है

ह्यूमन राइट्स वॉच ने चेताया है कि बहरैनी सरकार दो और लोगो को दिखावटी अदालती कार्यवाही के बाद मृत्यु दंड दे सकती है ह्यूमन राइट्स वॉच ने आज कहा है कि आले खलीफा शासन अपने सियासी विरोधी रमजान ईसा और हुसैन अली मूसा को मृत्यु दंड दे सकता है बहरैन की एक अदालत ने इन दोनों मानवाधिकार कार्यकर्ताओ को फरवरी २०१४ में अलदेर नामक गांव में एक बम धमाके और एक पुलिस अफसर के क़त्ल के आरोप का दोषी मानते हुवे मृत्यु दंड दिया है मानवाधिकार आयोग के प्रवक्ता ने कहा कि अभी कुछ दिन पहले ३ कार्यकर्ताओ को ऐसे ही मामले में दोषी करार देकर दी जाने वाली सज़ा ने और अधिक चिंतित कर दिया है
बहरैन की एक अदालत ने ९ जनवरी को समी मशिमा अब्बास जमील ताहिर समी और अली अब्दुल शहीद की अपील पर पुनः सुनवाई करते हुए उन्हें बम धमाके का अपराधी माना। बहरैन सरकार ने इन तीनो को मार्च २०१४ में मनामा कि नज़दीक एक गांव में बम ब्लास्ट का दोषी माना था जिसमे कुछ पुलिस अफसरों की मौत हो गई थी। इस अदालत ने सात आरोपियों को आजीवन कारावास और आठ दूसरो से देश की नागरिकता छीन लेने का फरमान सुनाया था जबकि आरोपी अपनी बेगुनाही की दुहाई देते रहे। मानवाधिकार संगठन इस बात पर एकमत थे कि इन लोगो ने पुलिस के टॉर्चर करने पर इक़बाले जुर्म किया था। मिडिल ईस्ट में ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा है कि बहरैनी सरकार को किसी भी परिस्थि में इन दो युवको को मृत्यु दंड नहीं देना चाहिए इस बात के पुख्ता सुबूत है के उनसे टॉर्चर करके जुर्म क़बूलवाया गया है। उन्होंने बिर्टेन, फ्रांस, इटली और यूरोपीय यूनियन से अपील कि है के वह खुल कर इस केस कि निंदा करे और इन दोनों को सजा मिलने से पहले ही इस हुक्म का विरोध करें।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*