$icon = $this->mediaurl($this->icon['mediaID']); $thumb = $this->mediaurl($this->icon['mediaID'],350,350); ?>
नेतनयाहू:

डोनाल्ड ट्रंप इस्राईल का एक शक्तिशाली समर्थक

  • News Code : 806686
  • Source : तेहरान रेडियो
Brief

बिनयामिन नेतेनयाहू ने सीबीएस के साथ साक्षात्कार में अभी हाल ही में डोनाल्ड ट्रंप को इस्राईल का एक शक्तिशाली समर्थक बताया था

बिनयामिन नेतेनयाहू ने सीबीएस के साथ साक्षात्कार में अभी हाल ही में डोनाल्ड ट्रंप को इस्राईल का एक शक्तिशाली समर्थक बताया था
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को बिनयामिन नेतेनयाहू से टेलीफोन पर वार्ता की। हमारे संवाददाता की रिपोर्ट के अनुसार इस वार्ता में डोनाल्ड ट्रंप ने बल देकर कहा कि अमेरिका इस्राईल की सुरक्षा के प्रति कटिबद्ध है।
साथ ही उन्होंने कहा कि फिलिस्तीनियों और इस्राईल के मध्य शांति, दोनों पक्षों के मध्य केवल सीधी वार्ता से संभव है और अमेरिका इस्राईल से निकट होने के नाते इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रयास करेगा।
डोनाल्ड ट्रंप के ये बयान ऐसी स्थिति में सामने आ रहे हैं जब व्हाइट हाउस में ट्रंप के प्रवेश के मात्र दो दिन बाद कुद्स की नगर परिषद ने सुरक्षा परिषद के हालिया प्रस्ताव की अनदेखी करते हुए अतिग्रहित भूमियों में 560 नये मकान के निर्माण को हरी झंडी दे दी है।
इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप के व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति के रूप में प्रवेश के समय जायोनी शासन ने एक प्रस्ताव पारित किया था जिसके अनुसार बैते लहम के दक्षिण में 2700 मकान निर्माण किये जायेंगे। ट्रंप और नेतेनयाहू ने इसी प्रकार इस टेलीफोनी वार्ता में इस बात पर सहमति की कि उनके अनुसार ईरान के खतरे के बारे में विचार- विमर्श करेंगे।
जायोनी शासन के प्रधानमंत्री बिनयामिन नेतेनयाहू ने इसी प्रकार इस टेलीफोनी वार्ता में डोनाल्ड ट्रंप के दौर के आरंभ होने पर बधाई दी और कहा कि ईरान के परमाणु समझौते का मुकाबला अमेरिका की नई सरकार से इस्राईल की सहकारिता की प्राथमिकता है।
बिनयामिन नेतेनयाहू ने सीबीएस के साथ साक्षात्कार में अभी हाल ही में डोनाल्ड ट्रंप को इस्राईल का एक शक्तिशाली समर्थक बताया और कहा था कि वह गुट पांच धन एक और ईरान के बीच होने वाले परमाणु समझौते को खत्म करने के लिए ट्रंप के साथ सहकारिता के इच्छुक हैं।
ट्रंप ने भी अभी हाल में सन्डे टाइम्स के साथ एक साक्षात्कार में कहा था कि वह परमाणु समझौते से प्रसन्न नहीं हैं और अब तक जितने समझौते हुए हैं उन सबमें उसे सबसे बदतर समझौता बताया था।
इसी प्रकार ट्रंप ने अपने चुनावी प्रचार के दौरान भी परमाणु समझौते को त्रासदी और दुनिया के बदतरीन समझौते का नाम दिया था और कहा था कि व्हाइट हाउस में प्रवेश करने की स्थिति में पहले दिन ही उसे फाड़ देंगे। अमेरिका के नये राष्ट्रपति ने इसी प्रकार इस टेलीफोनी वार्ता में बिनयामिन का अगले महीने मुलाकात का आह्वान किया।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*