?>

हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ जर्मनी का क़दम स्ट्रैटेजिक ग़लती हैः अमीर अब्दुल्लाहियान

हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ जर्मनी का क़दम स्ट्रैटेजिक ग़लती हैः अमीर अब्दुल्लाहियान

यमन ने हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ जर्मनी के क़दम को अमेरिका के अंधे अनुसरण का परिणाम बताया है।

ईरानी संसद सभापति के विशेष सलाहकार हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियान ने हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ जर्मनी के शत्रुतापूर्ण क़दम को स्ट्रैटेजिक ग़लती बताया है।

उन्होंने लेबनान के इस्लामी आंदोलन को आतंकवादी कहने पर आधारित जर्मनी के क़दम की भर्त्सना की और कहा कि हिज़्बुल्लाह लेबनानी समाज, संसद और सरकार का महत्वपूर्ण भाग है और इस देश की सुरक्षा को सुनिश्चित बनाने में उसका सराहनीय योगदान है।

इसी प्रकार उन्होंने जर्मन अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि अमेरिका और इस्राईल का अनुसरण करने से क्षेत्र में जर्मनी के हित खतरे में पड़ जायेंगे।

जर्मनी ने गुरूवार को अमेरिका और ज़ायोनी शासन की प्रसन्नता हासिल करने के लिए हिज़्बुल्लाह को एक आतंकवादी संगठन कहा था और इस देश में हिज़्बुल्लाह की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया।

इसी बीच यमन के अंसारुल्लाह संगठन ने भी हिज़्बुल्लाह के खिलाफ जर्मनी के कदम की भर्त्सना की है और उसे अमेरिका के अंधे अनुसरण का परिणाम बताया है।

अंसारुल्लाह ने एक विज्ञप्ति जारी करके कहा है कि जर्मनी का यह क़दम अमेरिका और जायोनी शासन के अंधे अनुसरण का परिणाम है और क्षेत्र में शैतानी व विध्वंसक परियोजना का भाग है।

अंसारुल्लाह ने लेबनान के इस्लामी आंदोलन हिज़्बुल्लाह के साथ समरसता और उसके पूर्ण समर्थन पर बल दिया है।

सीरिया ने भी हिज़्बुल्लाह के खिलाफ जर्मनी के कदम की भर्त्सना की है। सीरिया के विदेशमंत्रालय ने एक विज्ञप्ति जारी करके हिज़्बुल्लाह के खिलाफ जर्मनी के कदम की भर्त्सना की और उसे जर्मनी की सरकार की ओर से हिज़्बुल्लाह को दिया जाने वाला गौरव पदक बताया है।

सीरिया के विदेशमंत्रालय की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि जर्मनी का यह कदम इस बात का सूचक है कि बर्लिन अमेरिका और जायोनी शासन की नीतियों के समक्ष पूरी तरह नतमस्तक हो गया है।

इसी प्रकार सीरिया ने एक बार फिर आतंकवादी गुटों और अतिग्रहणकारी शासन से मुकाबले में हिज़्बुल्लाह की भूमिका पर बल दिया है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*