?>

हिज़बुल्लाह की छवि बिगाड़ने के लिए अमरीका ने ख़र्च किये 10 अरब डाॅलर, लेकिन हुआ उल्टा

हिज़बुल्लाह की छवि बिगाड़ने के लिए अमरीका ने ख़र्च किये 10 अरब डाॅलर, लेकिन हुआ उल्टा

हिज़बुल्लाह की छवि बिगाड़ने के लिए अमरीका ने ख़र्च किये 10 अरब डाॅलर, लेकिन हुआ उल्टा

लेबनान की संसद में हिज़बुल्लाह के संसदीय फ्रैक्शन के प्रमुख ने बताया है कि इस प्रतिरोधी संगठन की छवि बिगाड़ने के लिए व्यापक स्तर पर काम किये जा रहे हैं।

मुहम्मद रअद ने सोमवार को संसद में बोलते हुए कहा कि लेबनान में आर्थिक संकट को पैदा करने का उद्देश्य हिज़बुल्लाह को चोट पहुंचाने और उसकी छवि को बिगाड़ना है।  अमरीका ने लेबनान की आर्थिक सहायता करने के बजाए अरबों डाॅलर लोगों को हिज़बुल्लाह के ख़िलाफ़ उकसाने और उन्हें आपस में लड़ाने में ख़र्च कर डाले।

मुहम्मद रअद के अनुसार कुछ लोगों को इस काम पर लगाया गया कि वे इस बात का प्रचार करें कि लेबनान में स्थिरता, उसी समय आ सकती है जब लोग प्रतिरोध और हिज़बुल्लाह का साथ देना छोड़ दें।  इसी बीच लेबनान में उपयोगी सरकार के गठन के मार्ग में बाधाएं डाली जाने लगीं।  मुहम्मद रअद ने बताया कि ईरान से ईंधन आयात करने पर आधारित हिज़बुल्लाह के महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह के फैसले ने परिवेष्टन को तोड़ डाला जो राष्ट्र के हित में फैसला था।

याद रहे कि लेबनान में हालिया कुछ सप्ताहों के दौरान ऊर्जा का संकट बहुत बढ़ गया है।  इसके प्रभाव को इस बात से समझा जा सकता है कि कुछ अस्पताल, कंपनियां और अन्य क्षेत्र बिजली और ईंधन की कमी के कारण अपना काम रोकने पर मजबूर हो रहे हैं।  जैसे ही ईरान की ओर से भेजा गया ईंधन लेबनाना पहुंचा तबसे इस संकट के किसी सीमा तक कमी हुई है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*