?>

अपने जीवन साथी से मोहब्बत।

अपने जीवन साथी से मोहब्बत।

जितना इंसान का ईमान कामिल होता जाता है वह अपने जीवन साथी...................

रसूले इस्लाम स.अः जितना इंसान का ईमान कामिल होता जाता है वह अपने जीवन साथी (पति-पत्नी) से उतना ज़्यादा मोहब्बत का इजहार करता है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*