?>

सैन्यवाद क्षेत्र की मूल चुनौती व समस्या हैः राष्ट्रपति रूहानी

 सैन्यवाद क्षेत्र की मूल चुनौती व समस्या हैः राष्ट्रपति रूहानी

राष्ट्रपति डॉक्टर हसन रूहानी ने कहा है कि कुछ देशों और ज़ायोनी शासन का सैन्यवाद क्षेत्र की मूल चुनौती है।

राष्ट्रपति डॉक्टर हसन रूहानी ने आज सोमवार को क़तर के शासक से टलीफोनी वार्ता में क्षेत्र में शांति व सुरक्षा स्थापित करने के लिए प्रयास करने को इस्लामी गणतंत्र ईरान की मूल नीति बताया और कहा कि कुछ देशों और इस्राईल का सैन्यवाद क्षेत्र की मूल चुनौती है और क्षेत्र को सैन्यवाद से मुक्त करने के लिए प्रयास करना चाहिये।

उन्होंने कहा कि क्षेत्र में शांति व सुरक्षा स्थापित करने में ईरान और क़तर के दृष्टिकोण बहुत अधिक एक दूसरे के निकट हैं और दूसरे दोस्तों व देशों के सहयोग से इस दिशा में आवश्यक प्रयास किया जाना चाहिये।

राष्ट्रपति रूहानी ने क्षेत्र के विभिन्न विषयों के बारे में कतर के दृष्टिकोणों की सराहना की और शांतिपूर्ण ढंग से संकटों व समस्याओं के समाधान पर बल दिया। राष्ट्रपति डॉक्टर हसन रूहानी ने बल देकर कहा कि इस्लामी गणतंत्र ईरान ने संयुक्त राष्ट्रसंघ के माध्यम से यमन में शांति व सुरक्षा स्थापित कराने के लिए समस्त संभावनाओं का प्रयोग किया है और क्षेत्रीय समस्याओं के समाधान में इस्लामी देशों की भूमिका को अधिक करना ईरान का एक बुनियादी उद्देश्य है।

क़तरी शासक शैख़ तमीम बिन हमद बिन ख़लीफ़ा आले सानी ने भी इस टेलीफोनी वार्ता में ईरान और क़तर के संबंधों को बहुत अच्छा और मित्रतापूर्ण बताया और कहा कि हमारा मानना है कि क्षेत्रीय समस्याओं और विवादों का सैन्य समाधान नहीं है और समस्याओं के समाधान का बेहतरीन रास्ता राजनीतिक वार्ता है और हमें उम्मीद है कि क्षेत्र के समस्त देश एक दूसरे से सहयोग करके शांति व सुरक्षा के लिए प्रयास करेंगे। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*