आतंकवाद से पाक इदलिब के जन्म पर किस को हुई "प्रसव पीड़ा"

आतंकवाद से पाक इदलिब के जन्म पर किस को हुई

सीरिया में आतंकवाद के अंतिम पड़ाव इदलिब में सीरियाई सेना के अभियान पर अमरीका और इस्राईल का हो-हल्ला एक सामान्य बात है।

जब कभी भी सीरियाई सेना ने देश में दाइश और अल-क़ायदा जैसे ख़तरनाक आतंकवादी गुटों के ख़िलाफ़ कोई निर्णयाक क़दम उठाया है, अमरीका ने दमिश्क़ सरकार के ख़िलाफ़ बड़े पैमाने पर दुष्प्रचार शुरू किया है।

लेकिन जिस प्रकार से हलब और पूर्वी ग़ोता में आतंकवादियों को बचाने के लिए अमरीका की यह चालें असफल हो गईं, इदलिब में भी उसकी साज़िशों पर पानी फिरता नज़र आ रहा है।

अमरीका इस स्थिति में नहीं है कि सीरिया में अपने समर्थक गुटों की सहायता से सीधे युद्ध में कूद पड़े, इसलिए कि इराक़ और अफ़ग़ानिस्तान युद्ध के अनुभवों से अभी भी उसके दांत खट्टे हैं।

अमरीका की विभिन्न राजनीतिक संस्थाओं ने भी पेंटागन को चेतावनी दे दी है कि इलाक़े में किसी युद्ध में सीधे कूदना बहुत बड़ी मूर्खता होगी, इसलिए कि इसका परिणाम हार और नुक़सान के अलावा कुछ नहीं है, इसके स्थान पर उसे इलाक़े में अपने समर्थक आतंकवादी गुटों पर ही भरोसा करना चाहिए।

दूसरी ओर तुर्की को सीरिया में और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत ही जटिल परिस्थितियों का सामना है, जिसके कारण यह देश भी सीधे रूप से सीरियाई सेना से टकराने में हिचक रहा है।

हलब में होने वाली लड़ाई को तुर्की ने अपनी लड़ाई क़रार दिया था और व्यापक रूप से विभिन्न सशस्त्र गुटों का भरपूर समर्थन किया था, लेकिन तुर्क सेना ने जब देखा कि सीरियाई सेना ने आतंकवादी गुटों के ख़िलाफ़ लड़ाई शुरू कर दी है तो उसने इस इलाक़े से पीछे हटना ही उचित समझा। उस समय तुर्की ने हलब में लड़ रहे आतंकवादियों से पीछे हटने और इदलिब में शरण लेने की अपील की थी।

आज तुर्की की पोज़ीशन हलब की लड़ाई के समय की तुलना में कहीं कमज़ोर है, इसलिए इस बात की कोई आशंका नहीं है कि इदलिब पर आतंकवादी गुटों के क़ब्ज़े को बचाने के लिए तुर्क सेना युद्ध की आग में ख़ुद को झोंक देगी।

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि इदलिब में आतंकवादियों के ख़िलाफ़ निर्णायक सैन्य अभियान पर अमरीका और उसके घटक जितना चाहें शोर शराबा करें और दर्द का इज़हार करें, आतंकवाद से पाक इदलिब का जन्म होना ही है। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
We are All Zakzaky
सेंचुरी डील स्वीकार नहीं