?>

सऊदी अरब ने इस्राईली विमानों के लिए अपनी वायु सीमा बंद की, क्या रियाज़ का यह क़दम इस्राईल के साथ तनाव का सूचक है या किसी चाल का हिस्सा है?

सऊदी अरब ने इस्राईली विमानों के लिए अपनी वायु सीमा बंद की, क्या रियाज़ का यह क़दम इस्राईल के साथ तनाव का सूचक है या किसी चाल का हिस्सा है?

हिब्रू भाषा के संचार माध्यमों ने रिपोर्ट दी है कि सऊदी अरब ने अज्ञात कारणों से इस्राईली विमानों पर अपनी सीमा में उड़ान पर प्रतिबंध लगा दिया है।

समाचार एजेन्सी फार्स ने इस्राईली समाचार पत्र "जेरुस्लम पोस्ट" के हवाले से लिखा है कि सऊदी अरब ने आज मंगलवार को अस्थाई रूप से अपनी वायु सीमा को इस्राईली विमानों के लिए बंद कर दिया है। इस रिपोर्ट के अनुसार इस्राईल और बिन गोरियन हवाई अड्डे से दुबई जाने वाली उड़ानें पांच घंटे विलंब से हुईं और अभी यह ज्ञात नहीं है कि सऊदी अरब ने अवैध अधिकृत फिलिस्तीन से जाने वाली उड़ानों पर अपनी वायु सीमा में प्रवेश पर प्रतिबंध क्यों लगा दिया है।

इससे पहले सऊदी अरब ने जायोनी शासन से संबंधों को सामान्य बनाने के परिप्रेक्ष्य में संयुक्त अरब इमारात और बहरैन जाने वाले इस्राईली विमान को अपनी वायु सीमा में प्रवेश करने की अनुमति दी है। इस बात पर सहमति सऊदी अरब ने उस वक्त जता दी थी जब डोनाल्ड ट्रम्प अमेरिका के राष्ट्रपति थे।

ज्ञात रहे कि डोनाल्ड ट्रम्प के दामाद और उनके सलाहकार जेयर्ड कुश्नर के सऊदी नरेश बिन सलमान के साथ बहुत क़रीबी संबंध हैं और उस समय उन्होंने कहा था कि इस्राईल और सऊदी नरेश के मध्य सहमति व संबंध निश्चित है और केवल समय की प्रतीक्षा है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*