?>

लेबनान को वर्तमान संकट से निकलने में सात साल लग सकते हैंः मीशल औन

लेबनान को वर्तमान संकट से निकलने में सात साल लग सकते हैंः मीशल औन

लेबनान के राष्ट्रपति का कहना है कि देश को वर्तमान संकट से निकलने में 7 वर्षों तक का समय लग सकता है।

फ़ार्स प्रेस के अनुसार मीशल औन ने ट्वीट करके बताया है कि विभिन्न कारणों से लेबनान के भीतर जो संकट पैदा हो गया है उससे निकलने में बहुत समय चाहिए।  उन्होंने कहा कि चोरी और भ्रष्टाचार के परिणाम में जो स्थिति पैदा हो गई है उससे निकलने के लिए हमें कम से कम 7 वर्ष चाहिए।

लेबनान पिछले कुछ महीनों से फार्स की खाड़ी के कुछ अरब देशों के दबाव में है।  यह देश लेबनान में अपनी चलाना चाहते हैं।  बहुत से अवसरों पर वे इस देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करते हैं।

इसका एक उदाहरण लेबनान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री जार्ज क़रदाही का त्यागपत्र है।  उन्होंने अपने एक साक्षात्कार में सिर्फ यह कह दिया था कि यमन पर हमला रोका जाए और यह युद्ध समाप्त हो।  लेबनान के इस मंत्री की बात सऊदी अरब को इतनी बुरी लगी कि उसने इस देश से अपने राजदूत को वापस बुला लिया।

सऊदी अरब की देखादेखी यूएई और बहरैन ने भी अपने राजदूतों को लेबनान से वापस बुला लिया।  कुवैत ने भी एसा ही क़दम उठाते हुए अपने देश से लेबनान के कार्यवाहक राजदूत को निकलने के लिए 48 घंटे का अल्टीमेट दे दिया।

अंततः लेबनान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री को त्यागपत्र देना पड़ा।  बाद में बहरैन के दबाव में लेबनान को अपने यहां से बहरैन की अलवेफाक़ पार्टी के सदस्यों को निकालने पर मजबूर किया गया।

दूसरी ओर इस देश में सरकारी सतह पर भ्रष्टाचार बहुत बड़े पैमाने पर व्याप्त है तथा विदेशी ताक़ते वहां पर अपने हित साधने के लिए अपने एजेन्टों को प्रयोग कर रही हैं।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*