?>

यूएन ह्यूमन राइट्स काउंसिल का इस्राईल और फ़िलिस्तीन में मानवाधिकार के उल्लंघन की जांच शुरू करने का फ़ैसला, क्या इस्राईल युद्ध अपराध का दोषी क़रार पाएगा?

यूएन ह्यूमन राइट्स काउंसिल का इस्राईल और फ़िलिस्तीन में मानवाधिकार के उल्लंघन की जांच शुरू करने का फ़ैसला, क्या इस्राईल युद्ध अपराध का दोषी क़रार पाएगा?

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में इस्राईल के युद्ध अपराध पर ध्यान देने की इच्छा के बीच, इस्राईल और फ़िलिस्तीन में मानवाधिकार के उल्लंघन की जांच शुरू होने के फ़ैसले को स्वागत योग्य क़दम कहा गया है।

यूएन की रिपोर्ट के मुताबिक़, ग़ज़्ज़ा पर इस्राईल द्वारा 11 मई को थोपी गयी जंग में 6 अस्पताल, 9 हेल्थ केयर सेंटर और पानी के शुद्धिकरण का एक प्लान्ट तबाह हुआ।

ज़ायोनी सेना का दावा था कि वह हमास और दूसरे प्रतिरोधी गुटों की इमारतों को निशाना बना रही थी, जबकि ग़ज़्ज़ा स्थित फ़िलिस्तीनी मानवाधिकार सेंटर के निदेशक राजी सूरानी ने इसे झूठ कहा है।

ज़ायोनी प्रधान मंत्री ने हमास पर नागरिकों को मानव ढाल के तौर पर इस्तेमाल करने का इल्ज़ाम लगाया था, लेकिन पिछले हफ़्ते यूएन मावनाधिकार प्रमुख मिशेल बैश्लेट ने यूएन मानवाधिकार काउंसिल को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें इस्राईल के दावे का समर्थन करने वाले कोई सुबूत नहीं मिले कि ग़ज़्ज़ा में जिन इमारतों पर बमबारी हुयी उसमें “सशस्त्र गुट के सदस्य थे या उसे सैन्य लक्ष्य के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था।”

हालिया हिंसा से पहले, अंतर्राष्ट्रीय अपराध न्यायालय आईसीसी पिछली लड़ाइयों की जाँच शुरू कर चुका था और पिछले महीने आईसीसी की मुख्य प्रॉसिक्यूटर फ़ातू बिन सूदा ने कहा है कि ज़मीनी स्तर पर जो हो रहा है उस पर वह नज़र रखे हुए हैं।

इस चरण में सूचनाए इकट्ठा हो रही हैं, जबकि अतिग्रहित इलाक़ों में इस्राईली मानवाधिकार सूचना सेंटर बेतस्लेम के निदेशक याएल स्टेन का मानना है कि ग़ज़्ज़ा में नागरिक ढांचों पर इस्राईल की बमबारी अंतर्राष्ट्रीय क़ानून का उल्लंघन है।

ह्यूमन रॉइट्स वॉच के पश्चिम एशिया व उत्तरी अफ़्रीक़ा विभाग के कार्यवाहक निदेशक एरिक गोल्डस्टेन ने कहा है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में इस्राईल के युद्ध अपराध पर ध्यान देने की इच्छा पैदा हुयी है।

यूएन मानवाधिकार परिषद का इस्राईल और फ़िलिस्तीन में मानवाधिकार के उल्लंघन की जाँच शुरू करने का फ़ैसला स्वागत योग्य क़दम है। इस फ़ैसले में इस्राईल से सहयोग की मांग की गयी है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*