?>

यह है उत्तर कोरिया के पास दुनिया का सबसे ख़तरनाक हथियार एसएलबीएम

यह है उत्तर कोरिया के पास दुनिया का सबसे ख़तरनाक हथियार एसएलबीएम

उत्तर कोरिया ने पनडुब्बी से फ़ायर होने वाली बैलिस्टिक मीज़ाईल की नुमाइश की है।

उत्तर कोरिया की न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक़, गुरूवार की रात को परेड के दौरान प्यूंगयांग की ताक़त की नुमाइश के बाद, पार्टी की सभा आयोजित हुयी जिसमें किम जोंग उन ने देश की सैन्य ताक़त को बढ़ाने का संकल्प लेने के साथ ही कई नाकामी को भी स्वीकार किया।

काले रंग की चमड़े की जैकेट और दस्ताना पहने तथा फ़र की टोपी लगाए किम ने, किम द्वितीय सुंग स्कावयर पर, फ़्लड लाइट में परेड का मुआयना किया।

उत्तर कोरिया की न्यूज़ एजेंसी केसीएनए के मुताबिक़, दुनिया का सबसे ज़्यादा ताक़तवर हथियार पनडुब्बी से फ़ायर होने वाली बैलिस्टिक मीज़ाईल एसएलबीएम एक के बाद एक किम द्वितीय स्कावयर पर पहुंची, जिससे क्रांतिकारी सशस्त्र बल की ताक़त का प्रदर्शन हुआ।

सरकारी मीडिया से जारी तस्वीरों में एसएलबीएम पर पुकगुकसॉन्ग-5 लिखा था जो संभवतः पुकगुकसॉन्ग-4 का एडवान्सड वर्जन लगती है जिसकी अक्तूबर में परेड में नुमाइश हुयी थी।

कैलिफ़ोर्निया स्थित जेम्स मार्टिन सेंटर फ़ॉर नॉनप्रोलिफ़्रेशन स्टडीज़ सीएनएस के शोधकर्ता माइकल डूट्समन ने ट्वीटर पर कहा कि यह नया मीज़ाईल लंबा है।

केसीएनए के मुताबिक़, इस परेड में देश से बाहर दुश्मन को पूर्व रोकथाम के तौर पर तबाह करने की क्षमता वाले ताक़तवर रॉकेट की भी नुमाइश हुयी।

इस वाक्य का मतलब है कि इन हथियारों की मारक क्षमता कोरियाई प्रायद्वीप से बाहर है और कम से कम जापान तक पहुंच सकता है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*