?>

यमनी सेना और स्वयंसेवी बलों की ताक़त और सूझबूझ, कहा हमले करने वाले पहले हमले रोकें फिर कोई बात करें

यमनी सेना और स्वयंसेवी बलों की ताक़त और सूझबूझ, कहा हमले करने वाले पहले हमले रोकें फिर कोई बात करें

यमन की वार्ताकार टीम के प्रमुख ने ब्रिटिश राजदूत के बयान के जवाब में कहा है कि पहले सऊदी गठबंधन अपने हमले रोके, क्योंकि उसने यमन पर हमले शुरु किए हैं।

मंगलवार को अलमसीरा टीवी के मुताबिक़, मोहम्मद अब्दुस्सलाम ने अपने देश में ब्रिटिश राजदूत के बयान के जवाब में जिन्होंने मआरिब और जौफ़ के मोर्चों पर अंसारुल्लाह फ़ोर्स के हमले रुकने की बात कही थी, कहा कि यमन के ख़िलाफ़ जारी हमले और नाकाबंदी में ब्रिटिश सरकार को उसकी करतूत याद दिलाने की ज़रूरत है।

उन्होंने कहा कि जो राष्ट्र अपनी भूमि की रक्षा कर रहा है, उसका क़दम सही रास्ते पर है। मोहम्मद अब्दुस्सलाम ने कहा कि जब तक यमन पर हमले नहीं रुकते और नाकाबंदी नहीं ख़त्म होती उस वक़्त तक आत्मरक्षा जारी रहेगी।

यह ऐसी हालत में है कि यमन में ब्रिटिश इन्टेलिजेन्स के लिए जासूसी करने वालों के ख़िलाफ़ सोमवार को न्यायिक कार्यवाही शुरू हुयी।

ब्रिटिश इन्टेलिजेन्स, यमन में किराए के टट्टुओं को आधुनिक मशीनों व उपकरणों से लैस करके इस देश में विध्वन्सक गतिविधियाँ व जासूसी करवाती है।

ग़ौरतलब है कि सऊदी अरब, अमरीका, यूएई और कई दूसरे देशों के समर्थन से यमन पर 26 मार्च 2015 से हमले कर रहा है। इन हमलों में 16 हज़ार से ज़्यादा यमनी शहीद, दसियों हज़ार घायल और दसियों लाख बेघर हुए हैं। सऊदी हमलों की वजह से यमन को बहुत बड़े खाद्य संकट और इसके नतीजे में बड़ी मानव त्रासदी का सामना है। इसी तरह सऊदी अरब ने यमन की ज़मीनी, हवाई और समुद्री नाकाबंदी कर रखी है। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*