?>

यमनी मिज़ाइलें सऊदी गठबंधन के सैन्य अड्डे पर क़हर बनकर बरसीं, 30 एजेंट हुए ढेर, दसियों घायल

यमनी मिज़ाइलें सऊदी गठबंधन के सैन्य अड्डे पर क़हर बनकर बरसीं, 30 एजेंट हुए ढेर, दसियों घायल

दक्षिणी यमन में सऊदी गठबंधन के अलएनद सैन्य अड्डे पर यमनी सेना द्वारा किए गए ड्रोन हमले में मरने वाले सऊदी एजेंटों की संख्या बढ़कर 30 हो गई है।

अरब पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक़, दक्षिणी यमन के लहज प्रांत में मौजूद अलएनद सैन्य छावनी पर यमनी सेना ने जवाबी कार्यावही करते हुए तीन मिज़ाइलों से हमला किया है। इस हमले में अबतक सऊदी गठबंधन के 30 सैनिक मारे जा चुके हैं जबकि 60 अन्य घायल भी हुए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार यमनी सेना ने हमलावर सऊदी गठबंधन की अलएनद सैन्य छावनी पर तीन मिज़ाइल बरसाने के अलावा दो ड्रोन विमानों से भी हमला किया। यमनी सेना ने वर्ष 2019 में भी इस सैन्य छावनी को अपने हमले का निशाना बनाया था जिसमें सऊदी गठबंधन के कई सैनिक मारे गए और घायल हुए थे।

इस बीच इस्काई न्यूज़ ने रिपोर्ट दी है कि सऊदी गठबंधन के प्रवक्ता ने रविवार को यह बताया है कि यमनी सेना ने दक्षिणी सऊदी अरब के ख़मीस मशीत इलाक़े पर भी ड्रोन से हमला किया है। हालांकि यमनी सेना ने अभी तक इस हमले की पुष्टि नहीं की है। वहीं सऊदी गठबंधन ने दावा किया है कि एक ड्रोन विमान को उसने मार गिराया है जो ख़मीस मशीत इलाक़े पर उड़ान भर रहा था। ग़ौरतलब है कि सऊदी अरब, अमेरिका, संयुक्त अरब इमारात और अन्य कई देशों की मदद से मार्च 2015 से यमन पर पाश्विक हमले कर रहा है साथ ही इस देश की ज़मीनी, समुद्री और हवाई घेराबंदी भी कर रखी है, लेकिन इन सबके बावजूद यमनी राष्ट्र पूरी मज़बूती के साथ हमलावरों के मुक़ाबले में डटा हुआ है जिसके नतीजे में सऊदी अरब और उसके सहयोगी अब तक यमन में अपने किसी भी लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सके हैं। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*