?>

यमनियों के जवाबी हमलों से घबराए आले सऊद की ट्रम्प से गुहार, अमेरिका 500 सैनिक भेजने को तैयार

यमनियों के जवाबी हमलों से घबराए आले सऊद की ट्रम्प से गुहार, अमेरिका 500 सैनिक भेजने को तैयार

सऊदी अरब जिसने अपने पड़ोसी इस्लामी देश यमन पर चार वर्ष पहले यह सोच कर हमले शुरू किया था कि जल्द ही वह इस युद्ध को जीत लेगा लेकिन लगभग पांच वर्षों से जारी युद्ध में उससे शर्मनाक हार का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच यमनियों के जवाबी हमलों से घबराए आले सऊद ने अपने आक़ा अमेरिका से मदद की गुहार लगाई है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि सऊदी अरब की राजधानी रियाज़ सहित इस देश के विभिन्न क्षेत्रों में 500 अमेरिकी सैनिक तैनात किए जाएंगे। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि, इस समय सऊदी अरब की सुरक्षा को यमनियों सहित कई अन्य देशों से ख़तरा है। उन्होंने कहा कि मध्यपूर्व में जारी तनाव के देखते हुए उन्हें सऊदी अरब की सुरक्षा को लेकर चिंता थी जिसके कारण अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह फ़ैसला किया है कि वह सऊदी अरब की सुरक्षा के लिए इस देश में अमेरिकी सैनिकों को तैनात करेंगे।

इस बीच अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन ने सूचना दी है कि, अमेरिका बहुत जल्द सऊदी अरब की राजधानी रियाज़ के “शहज़ादा सुल्तान” हवाई अड्डे पर 500 अमेरिकी सैनिकों को तैनात करेगा। याद रहे कि सऊदी अरब के “शहज़ादा सुल्तान” एयरपोर्ट पर पहले से ही सैकड़ों अमेरिकी सैनिक तैनात हैं।

दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प द्वारा सऊदी अरब में ताज़ा दम सैनिकों की तैनाती को लेकर मध्यपूर्व के मामलों के कई जानकारों का कहना है कि, यमनियों द्वारा लगातार सऊदी अरब को दिए जा रहे मुंहतोड़ जवाब से आले सऊद शासन के शासक घबराए हुए हैं और उन्होंने ही अमेरिका को पैसों के बदेल सैनिकों की तैनाती की गुहार लगाई है। जानकारों के मुताबिक़, अमेरिका पहले से ही ईरान से बढ़ते तनाव के मद्देनज़र मध्यपूर्व के देशों में एक हज़ार से अधिक तैनात किए हुए है। मध्यपूर्व में लगातार अमेरिकी सैनिकों की बढ़ती संख्या के बारे में ट्रम्प प्रशासन का कहना है कि वह अपने सहयोगियों के हितों की सुरक्षा सुनिश्चित बनाने के लिए इस इलाक़े में सैनिकों की संख्या बढ़ा रहा है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*