?>
क़ुरान प्रदर्शनी के अंतर्राष्ट्रीय खंड के उद्घाटन समारोह में, फ़िक़्हीज़ादेह ने कहा:

मुस्लिम दुनिया के देशों के साथ बातचीत की छाया में समझ हासिल करना

मुस्लिम दुनिया के देशों के साथ बातचीत की छाया में समझ हासिल करना

संस्कृति और इस्लामी मार्गदर्शन मंत्रालय के उपाध्यक्ष ने कुरान प्रदर्शनी के अंतर्राष्ट्रीय खंड के उद्घाटन समारोह में इस आस्मानी पुस्तक को इस्लामी संस्कृति के मुख्य तत्व के रूप में रेखांकित किया, जो सभी इस्लामी देशों में आम है, और कहा: "हम इस्लामी दुनिया के देशों के साथ बातचीत के प्रकाश में एक समझ हासिल करना चाहते हैं।27 वीं अंतर्राष्ट्रीय

(ABNA24.com) संस्कृति और इस्लामी मार्गदर्शन मंत्रालय के उपाध्यक्ष ने कुरान प्रदर्शनी के अंतर्राष्ट्रीय खंड के उद्घाटन समारोह में इस आस्मानी पुस्तक को इस्लामी संस्कृति के मुख्य तत्व के रूप में रेखांकित किया, जो सभी इस्लामी देशों में आम है, और कहा: "हम इस्लामी दुनिया के देशों के साथ बातचीत के प्रकाश में एक समझ हासिल करना चाहते हैं।27 वीं अंतर्राष्ट्रीय कुरान प्रदर्शनी के अंतर्राष्ट्रीय खंड के उद्घाटन समारोह में संस्कृति और इस्लामी मार्गदर्शन मंत्रालय के कुरान और इत्रत डिपार्टमेंट के डिप्टी अब्दुलहादी फ़िक़्हीज़ादेह ने कहा, "हमारे पास इस प्रदर्शनी में पहली बार पाकिस्तान की मेजबानी करने का अनुभव है, और हम कोशिश कर रहे हैं कि बाद के वर्षों में अन्य देशों के साथ भी इस प्रक्रिया को जारी रखें।

उन्होंने इस बयान के साथ कि इस्लामी दुनिया होने वाली समस्याओं से बाहर निकलने के रास्ते को खोजना कुरान में संभव होगा, जारी रखते हुऐ कहा: "यह जरूरी है कि हम ईमानदारी के साथ कठिनाइयों और चुनौतियों को कुरान पर प्रस्तुत करें और इस आस्मानी पुस्तक से हिदायत लें।"

फ़िक़्हीज़ादेह ने कहा: आज इस्लामी दुनिया का दर्द असहमतियों और संघर्षों का दर्द है, इमाम खुमैनी के पाठ एकता और कुरान प्रदर्शनी की स्थापना के प्रकाश में, हम इस त्रासदी से बचने के प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने अपने जारी भाषण में कहा: कुरान, इस्लामी सांस्कृतिक का मुख्य तत्व है जो इस्लामी दुनिया के देशों की सभी संस्कृतियों में आम है; यह पुस्तक इस्लामी दुनिया की एकता और इस्लामी उम्माह की संबद्धता का कारक है। हम इस प्रयास में हैं कि मुस्लिम देशों से बात करें और इस के प्रकाश में किसी समझौते पर पंहुचे।



/129

क़ुरान प्रदर्शनी के अंतर्राष्ट्रीय खंड के उद्घाटन समारोह में, फ़िक़्हीज़ादेह ने कहा:
मुस्लिम दुनिया के देशों के साथ बातचीत की छाया में समझ हासिल करना

संस्कृति और इस्लामी मार्गदर्शन मंत्रालय के उपाध्यक्ष ने कुरान प्रदर्शनी के अंतर्राष्ट्रीय खंड के उद्घाटन समारोह में इस आस्मानी पुस्तक को इस्लामी संस्कृति के मुख्य तत्व के रूप में रेखांकित किया, जो सभी इस्लामी देशों में आम है, और कहा: "हम इस्लामी दुनिया के देशों के साथ बातचीत के प्रकाश में एक समझ हासिल करना चाहते हैं।27 वीं अंतर्राष्ट्रीय कुरान प्रदर्शनी के अंतर्राष्ट्रीय खंड के उद्घाटन समारोह में संस्कृति और इस्लामी मार्गदर्शन मंत्रालय के कुरान और इत्रत डिपार्टमेंट के डिप्टी अब्दुलहादी फ़िक़्हीज़ादेह ने कहा, "हमारे पास इस प्रदर्शनी में पहली बार पाकिस्तान की मेजबानी करने का अनुभव है, और हम कोशिश कर रहे हैं कि बाद के वर्षों में अन्य देशों के साथ भी इस प्रक्रिया को जारी रखें।

उन्होंने इस बयान के साथ कि इस्लामी दुनिया होने वाली समस्याओं से बाहर निकलने के रास्ते को खोजना कुरान में संभव होगा, जारी रखते हुऐ कहा: "यह जरूरी है कि हम ईमानदारी के साथ कठिनाइयों और चुनौतियों को कुरान पर प्रस्तुत करें और इस आस्मानी पुस्तक से हिदायत लें।"

फ़िक़्हीज़ादेह ने कहा: आज इस्लामी दुनिया का दर्द असहमतियों और संघर्षों का दर्द है, इमाम खुमैनी के पाठ एकता और कुरान प्रदर्शनी की स्थापना के प्रकाश में, हम इस त्रासदी से बचने के प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने अपने जारी भाषण में कहा: कुरान, इस्लामी सांस्कृतिक का मुख्य तत्व है जो इस्लामी दुनिया के देशों की सभी संस्कृतियों में आम है; यह पुस्तक इस्लामी दुनिया की एकता और इस्लामी उम्माह की संबद्धता का कारक है। हम इस प्रयास में हैं कि मुस्लिम देशों से बात करें और इस के प्रकाश में किसी समझौते पर पंहुचे।

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*