?>

बिन सलमान की क़ब्र खोदने की तैयारी, जेलों में क़ैद राजकुमारों को आज़ाद करने का बढ़ा दबाव, परेशान बिन सलमान के ताबूत पर क्या यह आख़िरी कील होगी?...

बिन सलमान की क़ब्र खोदने की तैयारी, जेलों में क़ैद राजकुमारों को आज़ाद करने का बढ़ा दबाव, परेशान बिन सलमान के ताबूत पर क्या यह आख़िरी कील होगी?...

सऊदी अरब के मीडिया सूत्रों का कहना है कि अमरीकी की नयी सरकार, जेल में बंद राजकुमारों को रिहा करने के लिए देश के क्राउन प्रिंस पर दबाव बढ़ा रही है।

फ़ार्स न्यूज़ एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार सऊदी अरब के एक जानकार सूत्र का कहना है कि अमरीका की ओर से राजकुमारों की रिहाई के लिए बढ़ने वाले दबावों से मुहम्मद बिन सलमान चिंतित हैं।

सऊदी अरब की वेबसाइट विकिलीक्स ने रिपोर्ट दी है कि मुहम्मद बिन सलमान की यह कोशिश है कि वह मानवाधिकार या अमरीकी नागरिकता रखने वाले क़ैदियों को आज़ाद कर दें ताकि बाइडन सरकार राज़ी हो जाए और वह राजकुमारों की रिहाई के मुद्दे को न उठाए।

वह इस बारे में अमरीकी दबाव बढ़ने से भी काफ़ी चिंतित हैं क्योंकि उन्हें अपने राजनैतिक भविष्य को लेकर चिंता बढ़ गयी है। वह चाहते हैं कि वाशिंग्टन को विश्वास में ले लें कि अगर राजकुमारों की आज़ादी हो जाती है तो वह सऊदी नरेश बनने की राह में उनके लिए समस्याएं नहीं खड़ी करेंगे।

इस सऊदी सूत्र का कहना है कि रियाज़ सरकार पर पूरी ताक़त से अमरीकी दबाव पड़ रहा है और सऊदी राजकुमार कभी भी आज़ाद हो सकते हैं।

कुछ दिन पहले सऊदी मानवाधिकार महिला कार्यकर्ता लजीन हज़लूल जो 18 मई 2018 से जेल में बंद थीं, रिहा कर दी गयीं और इसके साथ ही मानवाधिकार के संबंध में जेल की सज़ा काटने वाले दूसरे क़ैदियों की रिहाई की उम्मीद भी बढ़ गयी है।

पिछले वर्ष दिसम्बर के महीने में सऊदी जेलों में बंद राजकुमारों के परिजनों ने बाइडन को पत्र लिखकर उनके बच्चों की रिहाई के मुद्दे में हस्तक्षेप करने की मांग की थी और बताया था कि राजकुमारों को बहुत ही दयनीय स्थिति में जेलों में रखा गया है। बाइडन के जीतते ही राजकुमारों की आज़ादी के लिए मुहम्मद बिन सलमान पर दबाव बढ़ने लगा था।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*