?>

बहरैन की तानाशाही सरकार ने फिर ईरान विरोधी राग अलापा है

बहरैन की तानाशाही सरकार ने फिर ईरान विरोधी राग अलापा है

बहरैन की तानाशाही सरकार इस्लामी गणतंत्र ईरान के खिलाफ जो इस प्रकार के निराधार दावे करती है इससे उसका लक्ष्य इस देश की जनता के साथ जो कुछ दमनात्मक कार्यवाही वह कर रही है उससे आम जनमत का ध्यान हटाना है।

बहरैनी जनता का जब से शांतिपूर्ण संघर्ष व प्रदर्शन आरंभ हुआ है तब से इस देश की तानाशाही सरकार ने बारमबार किसी प्रकार के प्रमाण के बिना इस देश की जनता के प्रदर्शनों को ईरान से संबंधित बताने का प्रयास किया है।

इसी परिप्रेक्ष्य में बहरैनी संसद में विदेशी मामलों की समिति ने एक विज्ञप्ति जारी करके एक बार फिर कहा है कि ईरान बहरैन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है और इस पर उसने चिंता भी जताई है।

बहरैन के सबसे बड़े विपक्षी दल अलवेफ़ाक के महासचिव शैख अली सलमान को बहरैनी अदालत ने जो अभी हाल ही में सज़ा सुनाई थी उसकी विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता बहराम कासेमी ने भर्त्सना की और कहा है कि यह अन्यायपूर्ण निर्णय इस बात का सूचक है कि बहरैनी सरकार शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रही इस देश की जनता की आवाज़ को दबाना चाहती है।

बहरैन की तानाशाही सरकार इस्लामी गणतंत्र ईरान के खिलाफ जो इस प्रकार के निराधार दावे करती है इससे उसका लक्ष्य इस देश की जनता के साथ जो कुछ दमनात्मक कार्यवाही वह कर रही है उससे आम जनमत का ध्यान हटाना है। इसी प्रकार बहरैन की तानाशाही सरकार उसके खिलाफ होने वाले प्रदर्शनों को ईरान से संबंधित बताना चाहती है ताकि आम जनमत बहरैनी समाज में मौजूद वास्तविकताओं पर ध्यान ही न दे।

बहरैनी सरकार का कहना है कि जो प्रदर्शन बहरैन में हो रहे हैं उसका दिशा- निर्देशन तेहरान कर रहा है जबकि यह प्रदर्शन खुद से हो रहे हैं और बहरैनी जनता अपने अधिकारों को प्राप्त करने के लिए कर रही है परंतु बहरैनी सरकार वास्तविकताओं पर ध्यान देने के बजाये इसका आरोप दूसरों पर मढ़ती है और बहरैनी अधिकारी यह सोचते हैं कि ईरान पर आरोप मढ़कर वे वास्तविकता को परिवर्तित कर सकते हैं।

रोचक बात यह है कि अगर यह कार्य बहरैनी अधिकारियों की क्षमता में होता तो यह कार्य कर चुके होते परंतु बहरैनी जनता के शांतिपूर्ण प्रदर्शनों का जारी रहना इस बात का सूचक है कि उसकी आवाज़ को दबाने के लिए इस देश की तानाशाही सरकार ने अब तक जितनी भी नीतियां अपनाई और चालें चली हैं सब विकफ सिद्ध हुई हैं और बहरैनी जनता ने बारमबार बल देकर कहा है कि अधिकारों की प्राप्ति तक उसका शांतिपूर्ण संघर्ष व प्रदर्शन जारी रहेगा। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*