?>

फ़िलिस्तीनियों के समर्थकों का अभियान, हज़ारों वन स्टार रिव्यूव्ज़ के बाद फ़ेसबुक हिल गया!

फ़िलिस्तीनियों के समर्थकों का अभियान, हज़ारों वन स्टार रिव्यूव्ज़ के बाद फ़ेसबुक हिल गया!

इस्राईल की ओर से ग़ज़्ज़ा पर किए गए हमलों के बाद पिछले हफ़्ते से फ़ेसबुक के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पर एक अभियान चलाया जा रहा है जिसने फ़ेसबुक को हिला कर रख दिया है।

फ़िलिस्तीनी कॉज़ के समर्थकों को एप स्टोर और गूगल प्ले स्टोर पर फ़ेसबुक की रेटिंग को बहुत हद तक कम करने में कामयाबी भी मिली है। इस अभियान की वजह फ़ेसबुक पर फ़िलिस्तीनियों की आवाज़ दबाना क़रार दी गई है। एक हफ़्ते पहले एप स्टोर और गूगल प्ले पर फ़ेसबुक की रेटिंग 4 से ज़्यादा थी मगर अब यह घट कर एप स्टोर में 2.3 और गूगल प्ले में 2.4 तक पहुंच गई है। इस अभियान के दौरान हज़ारों लोगों ने फ़ेसबुक को 1 स्टार का रिव्यूव दिया और उनमें से ज़्यादातर ने फ़ेसबुक पर आरोप लगाया कि वह फ़िलिस्तीनियों की आवाज़ दबा रहा है।

 

दूसरी ओर फ़ेसबुक ने इस अभियान को बहुत गंभीरता से लिया है और इसे SEV1 का दर्जा दिया गया कि जो severity-1 का निक नेम है। इस शब्दावली का प्रयोग कंपनी में उस समय किया जाता है जब वेबसाइट को किसी बड़ी समस्या का सामना हो। इससे बड़ा लेवल SEV0 है जिसे उस वक़्त प्रयोग किया जाता है जब वेबसाइट डाउन हो जाए। फ़ेसबुक कंपनी से लीक होने वाले स्क्रीन शाट्स से पता चलता है कि उसने एपल से कहा है कि वह एप स्टोर से 1 स्टार वाले रिव्यूव डिलिट कर दे मगर एपल ने इसे मानने से इन्कार कर दिया है। गूगल ने इस पर क्या प्रतिक्रिया दिखाई है, यह अभी स्पष्ट नहीं है।

 

फ़ेसबुक के प्रवक्ता ने अपने एक बयान में कहा है कि हमारी नीतियां यूज़र्स की सुरक्षा के साथ हर एक को आवाज़ उठाने का मौक़ा देने के लिए तैयार की गई हैं और हम इन नीतियों को, यह देखे बिना कि यूज़र क्या पोस्ट कर रहा है या उसका निजी विचार क्या है? समान रूप से लागू करते हैं। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*