?>

पाकिस्तान तालेबान पर अपने प्रभाव का प्रयोग करेः अमेरिका

पाकिस्तान तालेबान पर अपने प्रभाव का प्रयोग करेः अमेरिका

अमेरिका के विदेशमंत्री ने पाकिस्तान का आह्वान किया है कि वह अफ़ग़ानिस्तान की शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए तालेबान पर अपने प्रभाव का प्रयोग करे।

अमेरिकी विदेशमंत्री यह मांग ऐसी स्थिति में कर रहे हैं जब इस्लामाबाद ने कहा है कि तालेबान पर उसका कोई नियंत्रण व प्रभाव नहीं है। समाचार एजेन्सी इर्ना की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी विदेशमंत्री एंटनी ब्लिंकन ने दावा किया है कि पाकिस्तान का तालेबान पर प्रभाव है और अमेरिका को उम्मीद है कि इस्लामाबाद अपने प्रभाव का प्रयोग करेगा।

इसी प्रकार उन्होंने कहा कि पाकिस्तान तालेबान पर अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके इस बात का आश्वासन हासिल कर सकता है कि तालेबान ताकत के बल पर अफगानिस्तान पर वर्चस्व जमाने के प्रयास में नहीं है इस आधार पर वाशिंग्टन को आशा है कि इस्लामाबाद अपनी भूमिका निभायेगा।

अमेरिकी विदेशमंत्री के बयान इस बात के सूचक हैं कि अमेरिका अफगानिस्तान पर तालेबान के वर्चस्व से चिंतित है।

यद्यपि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी और नैटो सैनिकों के निष्कासन के लिए 15 सितंबर तक का समय दिया है परंतु तालेबान की प्रगति को रोकने के लिए वह अपने डिप्लोमैटिक प्रभाव का प्रयोग कर रहा है और इसी कारण उसने पाकिस्तान से आशायें लगा रखा रखी हैं।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने पिछले दिनों अमेरिकी चैनल पीबीएस से साक्षात्कार में कहा था कि अफगानिस्तान से निकलने के लिए अमेरिका द्वारा समय सारणी निर्धारित कर दिये जाने से तालेबान को आश्वस्त करने हेतु पाकिस्तान का प्रभाव सीमित हो गया है। उन्होंने कहा कि तालेबान अफगानिस्तान से विदेशी सैनिकों के निकलने को अपनी विजय के रूप में देख रहे हैं।

ज्ञात रहे कि पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और इस देश की खुफिया एजेन्सी आईएसआई के प्रमुख मंगलवार से वाशिंग्टन में अमेरिकी अधिकारियों से अफगानिस्तान सहित विभिन्न विषयों के बारे में विचारों का आदान- प्रदान कर रहे हैं। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*