?>

पाकिस्तान और भारत फिर भिड़े, पाकिस्तान का आरएसएस-भाजपा पर हमला, जम्मू कश्मीर पर क़ब्ज़ा ख़त्म करे भारत

पाकिस्तान और भारत फिर भिड़े, पाकिस्तान का आरएसएस-भाजपा पर हमला, जम्मू कश्मीर पर क़ब्ज़ा ख़त्म करे भारत

पाकिस्तान ने गिलगित- बल्तिस्तान के बारे में भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के बयान को रद्द करते हुए कहा है कि आरएसएस- बीजेपी नेता राजनैतिक लाभ उठाने के लिए झूठे दावे कर रहे हैं।

पाकिस्तान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ज़ाहिद हफ़ीज़ चौधरी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान, गिलगित-बल्तिस्तान के बारे में भारतीय रक्षामंत्री के बयान को रद्द कर दिया है। उन्होंने बयान में कहा कि मामले के ऐतिहासिक, क़ानूनी और नैतिक आयामों पर भारत को कोई क़ानूनी हैसियत हासिल नहीं है।

पाकिस्तान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता के बयान में कहा गया है कि आरएसएस-बीजेपी नेता के अनावश्यक झूठे दावों का क्रम राजनैतिक लाभ के लिए है और इससे सच्चाई बदल नहीं सकती और न ही जम्मू कश्मीर पर ग़ैर क़ानूनी ढंग से भारतीय सेना की ओर से कश्मीरियों के विरुद्ध मानवाधिकारों के घोर हनन से ध्यान हटाया जा सकता है।

कश्मीर मुद्दे पर अपने दृष्टिकोण को दोहराते हुए उनका कहना था कि जम्मू कश्मीर विवाद पर पाकिस्तान का सैद्धांतिक दृष्टिकोण संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद के संबंधित प्रस्तावों की रोशनी में यथावत बाक़ी है।

पाकिस्तान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान मांग करता है कि भारत, जम्मू कश्मीर में ग़ैर क़ानूनी क़ब्ज़ा तुरंत ख़त्म करे।

ज्ञात रहे कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने 1 नवम्बर को गिलगित बल्तिस्तान के 73वें स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि हमारी सरकार ने गिलगित बल्तिस्तान को अंतरिम प्रांत का दर्जा देने का फ़ैसला कर लिया है जो सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के अनुसार है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के इस बयान पर भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि पाकिस्तान नियंत्रित कश्मीर का पूरा क्षेत्र भारत का है और पाकिस्तान का गिलगित बल्तिस्तान पर ग़ैर क़ानूनी क़ब्ज़ा है और पाकिस्तान अब इसको अपना प्रांत बना रहा है।

उनका कहना था कि हमारी सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि गिलगित बल्तिस्तान और पूरा कश्मीर, भारत का हिस्सा है और हम भारत का विभाजन नहीं चाहते लेकिन ऐसा हो रहा है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*