बहरैन में मानवाधिकारों के हनन को लेकर एमनेस्टी इंटरनेशनल ने चेताया।

 बहरैन में मानवाधिकारों के हनन को लेकर एमनेस्टी इंटरनेशनल ने चेताया।

बहरैनी जनक्रांति की छठी वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित देशव्यापी विरोध प्रदर्शनों के बीच एमेनेस्टी इंटरनेशनल ने चेताया है कि इस देश में मानवाधिकारों की दशा बहुत दयनीय है।

बहरैनी जनक्रांति की छठी वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित देशव्यापी विरोध प्रदर्शनों के बीच एमेनेस्टी इंटरनेशनल ने चेताया है कि इस देश में मानवाधिकारों की दशा बहुत दयनीय है।
२०१७ के आरंभिक दो महीनो में जनता पर किये जा रहे अत्याचार और घृणित दमन अपने चरम पर पहुंच गया है। राजनीतिक विरोधियों को मौत की सज़ा दी जा रही है। आले खलीफा शासन दावा करता रहा है कि वह मानवाधिकारों को लेकर सजग है बहरैन के हालात ठीक हो रहे हैं। जबकि पिछले दिनों बहरैनी जनता पर पुलिस की बर्बरतापूर्ण कार्यवाहियां तथा प्रदर्शनकारियों पर अत्याचार की घटनाओं में वृद्धि हुई है।
ज्ञात रहे कि बहरैन में पिछले ६ साल से न्याय एंव समानाधिकार तथा राजशाही अत्याचार के विरुद्ध शांतिपूर्ण प्रदर्शन हो रहे है जिसमे अब तक अनेकों लोग अपनी जान दे चुके हैं तथा सैकड़ों बन्दी बना लिए गए हैं।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
We are All Zakzaky