सोशल मीडिया पर हैशटैग "बिन सलमान ज़ायोनी है", पूरे अरब जगत में बना चर्चा का विषय

सोशल मीडिया पर हैशटैग

आजकल सोशल मीडिया पर "बिन सलमान ज़ायोनी है" के हैशटैग ने सऊदी अरब सहित पूरे अरब जगत में सनसनी फैला रखी है।

प्राप्त रिपोर्टों के अनुसार सोशल साइट्स पर वायरल "बिन सलमान ज़ायोनी है" नामक हैशटैग करने वालों ने इसको वायरल करने का उद्देश्य भी लिखा है, हैशटैग करने वालों ने लिखा है कि “हम सब सऊदी-यहूदी के बीच होने वाले समझौतों के प्रयासों का विरोध करते हैं,  हम इसका भी विरोध करते हैं कि जो बिन सलमान, इस्राईल के साथ सऊदी अरब के संबंध समान करने का प्रयास कर रहे हैं”

ट्विटर पर हैशटैग करने वालों ने सऊदी युवराज द्वारा ज़ायोनी शासन विरोधी आंदोलनों को दबाने के प्रयासों की निंदा करते हुए इस बात पर ज़ोर दिया है कि बिन सलमान ने इस्राईल से फ़िलीस्तीन का सौदा कर लिया है और यही कारण है कि आज आले सऊद शासन मुसलमानों के सबसे पवित्र शहर मक्का, जहां किसी भी ग़ैर मुस्लिम का प्रवेश वर्जित है, क़ुरान के इस आदेश का खुला उल्लंघन करते हुए ज़ायोनियों को प्रवेश की अनुमति दे रहा है।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले इस्राईल के “बेन तेज़यून” नामक एक फ़ोटोग्राफर ने मस्जिदे नबवी और पवित्र नगर मक्का से अपनी तस्वीरें सोशल मीडिया पर जारी की थीं और सऊदी अरब-इस्राईल के बीच संबंध सामान्य करने की मांग की थी।

 इस रिपोर्ट के बाद से ही दुनिया भर के मुसलमानों में आक्रोष है और सोशल मीडिया पर लोग सवाल कर रहे हैं कि क्या आले सऊद क़ुरान और इस्लाम के सिद्धांतों की उपेक्षा करते हुए मक्के में ज़ायोनियों की आवाजाही को सामान्य बना देंगे?

सोशल मीडिया पर लोग यह भी सवाल कर रहे हैं कि क्या इस्राईल ने जिस तरह हथियारों के बल पर मुसलमानों के पहले क़िब्ले मस्जिदुल अक़्सा पर क़ब्ज़ा कर लिया है उसी तरह आले सऊद के साथ मिलकर मुसलमानों के सबसे पवित्र स्थल मक्का पर तो क़ब्ज़े की साज़िश नहीं रच रहा है।
.................
300


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
We are All Zakzaky
सेंचुरी डील स्वीकार नहीं