सामर्रा में इमाम अली नक़ी अ. की शहादत की याद मनाने पहुँचे 15 लाख ज़ायरीन।

सामर्रा में इमाम अली नक़ी अ. की शहादत की याद मनाने पहुँचे 15 लाख ज़ायरीन।

उत्तरी इराक़ के सामर्रा नगर में स्थित इमाम अली नक़ी अलैहिस्सलाम के पवित्र रौज़े में उनकी शहादत की बरसी के उपलक्ष्य में पंद्रह लाख श्रद्धालु पहुंचे।

उत्तरी इराक़ के सामर्रा नगर में स्थित इमाम अली नक़ी अलैहिस्सलाम के पवित्र रौज़े में उनकी शहादत की बरसी के उपलक्ष्य में पंद्रह लाख श्रद्धालु पहुंचे।
इराक़ की सूमरिया न्यूज़ वेबसाइट के अनुसार स्वयं सेवी बल के एक कमांडर सामी मस्ऊदी ने बताया है कि शनिवार को सामर्रा नगर की रक्षा के लिए 11 हज़ार स्वयं सेवी बलों को इस नगर में तैनात किया गया है। पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम के पौत्र इमाम अली नक़ी अलैहिस्सलाम को 3 रजब सन 254 हिजरी क़मरी में तत्कालीन अब्बासी ख़लीफ़ा ने शहीद करवा दिया था। हर साल तीन रजब को बड़ी संख्या में पैग़म्बरे इस्लाम के परिजनों के प्रेमी सामर्रा पहुंच कर इमाम अली नक़ी अलैहिस्सलाम से अपनी श्रद्धा का प्रदर्शन करते हैं।
इस अवसर पर ईरान में भी सभी छोटे बड़े शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में शोक सभाएं आयोजित हुईं जिनमें वक्ताओं ने इमाम अली नक़ी के चरित्र के विभिन्न आयामों पर प्रकाश डाला। भारत, पाकिस्तान और अन्य क्षेत्रों में भी इमाम अली नक़ी अलैहिस्सलाम की शहादत की बरसी पर शोक सभाएं आयोजित होने के समाचार हैं। कई देशों में रविवार को इमाम की शहादत की बरसी मनाई जा रही है।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

پیام رهبر انقلاب به مسلمانان جهان به مناسبت حج 1440 / 2019
conference-abu-talib
We are All Zakzaky