रोहिंग्या मुसलमानों के लिए म्यांमार सरकार की नई पॉलिसी

रोहिंग्या मुसलमानों के लिए म्यांमार सरकार की नई पॉलिसी

म्यांमार में पिछले 7 वर्षों से मुसलमानों का नरसंहार किया जा रहा है, जिसके विरोध में न ही अमेरिका म्यांमार को कुछ कह रहा है और न ही अंतर्राष्ट्रीय संगठन इस पर किसी तरह की रोक लगा रहे हैं।

अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबना : प्राप्त सूत्रों के अनुसार म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमान अभी तक बेघर हैं, एवं दरबदरी का जीवन व्यतीत कर रहे हैं। जबकि एक सूचना यह भी है कि म्यांमार की सरकारी लीडर आंग सान सूची ने यह बयान दिया है कि वह बांग्लादेश में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों को फिर से म्यांमार वापस बुलाने के लिए बातचीत की तैयारी में है।
 अब यह साफ़ नहीं है कि वह ऐसा कर पाऐंगी या नहीं।
 ज्ञात रहे कि म्यांमार में पिछले 7 वर्षों से मुसलमानों का नरसंहार किया जा रहा है, जिसके विरोध में न ही अमेरिका म्यांमार को कुछ कह रहा है और न ही अंतर्राष्ट्रीय संगठन इस पर किसी तरह की रोक लगा रहे हैं।
 जबकि अगर कहीं किसी मुसलमान देश में पत्ता भी खटक जाए तो वाशिंगटन से मानव सहायता एवं उनके अधिकारों के लिए झूठे नारे लगने लगते हैं, इन सब हालात को देखते हुए तो यह लगता है कि म्यांमार में मुसलमानों का नरसंहार अमेरिका, अंतर्राष्ट्रीय संगठन एवं अन्य साम्राज्यवादी देशों की इच्छा पर ही हो रहा है।
 


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
We are All Zakzaky