मुशीर अल मसरी:

मस्जिदुल अक़्सा की रक्षा वास्तव में मस्जिदुलहराम की रक्षा करना है।

मस्जिदुल अक़्सा की रक्षा वास्तव में मस्जिदुलहराम की रक्षा करना है।

हमास प्रमुख मुशीर अल मसरी का कहना है कि मस्जिदुल अक़्सा की रक्षा करना और उसे बचाना वास्तव में मस्जिदुलहराम की रक्षा करना और उसे बचाना है।

अहलेबैत न्यूज़ एजेंसी अबना: अलमयादीन टीवी की रिपोर्ट के अनुसार हमास प्रमुख मुशीर अल मसरी का कहना है कि मस्जिदुल अक़्सा की रक्षा करना और उसे बचाना वास्तव में मस्जिदुलहराम की रक्षा करना और उसे बचाना है।
उन्होंने कहा कि हम बैतुल मुक़द्दस और फ़िलिस्तीन से बिल्कुल भी ग़ाफ़िल नहीं हैं।
उन्होंने बल देते हुए कहा कि फ़िलिस्तीनी में सुलह और राष्ट्रीय एकता को मजबूत बनाने की आवश्यकता है और फ़िलिस्तीन की फ़तह क्रांति से मांग की है कि वह हमास के कार्यों के साथ साथ सुलह को भी महत्व दें।
अलमसरी फ़िलिस्तीनी अथारटी से यह चाहते हैं कि वह अपनी जिम्मेदारियां अंजाम दें और ग़ज़्ज़ा के नागरिकों से हर प्रकार की पाबंदियाँ हटाऐं। उन्होंने कहा कि हम ज़ायोनी शासन की पहचान को मिटा कर उसको मायूस करना चाहते हैं।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

*शहादत स्पेशल इश्यू*  शहीद जनरल क़ासिम सुलैमानी व अबू महदी अल-मुहंदिस
conference-abu-talib
We are All Zakzaky
सेंचुरी डील स्वीकार नहीं