?>

चीन पर वीगर मुस्लिम संस्कृति को मिटाने के लिए 16,000 मस्जिदें तोड़ने का आरोप, रिपोर्ट मनगढ़त है, बीजिंग

चीन पर वीगर मुस्लिम संस्कृति को मिटाने के लिए 16,000 मस्जिदें तोड़ने का आरोप, रिपोर्ट मनगढ़त है, बीजिंग

शुक्रवार को एक ऑस्ट्रेलियन थिंक टैंक की रिपोर्ट के मुताबिक़, हालिया वर्षों में चीन ने शिनजियांग प्रांत में हज़ारों मस्जिदों को ध्वस्त कर दिया, ताकि मुस्लिम सांस्कृतिक विरासत को "मिटाया या बदला जा सके"।

ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटेजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट (एएसपीआई) की रिपोर्ट के मुताबिक़, चीन के उत्तर पश्चिम में स्थित शिनजियांग प्रांत में 16,000 मस्जिदों को ध्वस्त या क्षतिग्रस्त कर दिया है, यह संख्या कुल मस्जिदों की 65 फ़ीसद है।

एएसपीआई ने दावा किया है कि उसके पास सैटेलाइट इमेजिज़ और दस्तावेज़ हैं, जिनके आधार पर यह रिपोर्ट तैयार की गई है।

अधिकांश मस्जिदों को पिछले तीन वर्षों के दौरान, तोड़ा गया है। एक अनुमान के मुताबिक़, 8,500 मस्जिदों को पूर्ण रूप से ध्वस्त कर दिया गया है।

अकसर मस्जिदों को उरूमक़ी और काशगर के शहरी इलाक़ों में तोड़ा गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक़, जिन मस्जिदों को ध्वस्त नहीं किया गया है, उनके गुबंदों और मीनारों को तोड़ दिया गया है। एक अनुमान है कि शिनजियांग में ऐसी 15,500 मस्जिदे हैं, जिनका स्वरूप बदल दिया गया है।

अगर यह आंकड़ें सही हैं, तो 1960 के बाद से इस इलाक़े में मस्जिदों की संख्या सबसे कम होगी।

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि शिनजियांग स्थित बौद्ध मंदिरों और चर्चों को नहीं तोड़ा गया है।

एएसपीआई का कहना है कि चीन, शिनजियांग की स्थानीय सांस्कृतिक धरोहर को मिटाने की कोशिश कर रहा है, इसी के साथ ऑस्ट्रेलियन थिंक टैंक ने इस स्थिति पर विश्व समुदाय की चुप्पी की कड़ी आलोचना की है।

शिनजियांग क्षेत्र में चीन के इस अभियान की जड़ें 1940 के दशक से जाकर मिलती हैं, जब वीगर मुस्लिम बहुल इलाक़े का चीन में विलय किया गया। लेकिन हालिया वर्षों में इस इलाक़े में नमाज़ पढ़ने, रोज़ा रखने, दाढ़ी बढ़ाने या हिजाब पहनने पर प्रतिबंधों में तेज़ी आई है।

चीनी अधिकारियों का दावा है कि धार्मिक प्रतीकों से कट्टरवाद की झलक आती है, इसीलिए आतंकवादवाद से मुक़ाबले के नाम पर चीन अपनी कार्यवाही को सही ठहराता है।

पिछले साल एएफ़पी ने अपनी एक जांच में दावा किया था कि इस क्षेत्र में दर्जनों कब्रिस्तानों को नष्ट कर दिया है।

जून में एपी की एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया था कि चीन, वीगर मुसलमानों की आबादी को जबरन नियंत्रित कर रहा है।

हालांकि चीन ने इन रिपोर्टों को मनगढ़ंत बताया है और कहा है कि शिनजियांग में मुसलमानों को पूरी तरह से धार्मिक आज़ादी हासिल है।

शुक्रवार को जब एएसपीआई की रिपोर्ट के बारे में पूछा गया तो चीन के विदेश मंत्रालय का कहना था कि ऑस्ट्रेलियन थिंक टैंक की कोई शैक्षणिक विश्वसनीयता नहीं है, और वह चीन विरोधी रिपोर्टें गढ़ रहा है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन का कहना था कि क्षेत्र में 24,000 मस्जिदे हैं, और यह संख्या अमरीका से 10 गुना ज़्यादा है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*