?>

गोडसे ने देश बचाया”और “गोडसे अमर रहे”के लगे नारे

गोडसे ने देश बचाया”और “गोडसे अमर रहे”के लगे नारे

भारत के हरियाणा राज्य के गुरुग्राम में सार्वजनिक स्थानों पर नमाज के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करने वाले संगठनों ने शुक्रवार को महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले कालीचरण की रिहाई की मांग को लेकर प्रदर्शन किया।

इस दौरान दक्षिणपंथी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने “गोडसे ने देश बचाया” और “गोडसे अमर रहे” जैसे भड़काऊ नारे भी लगाए। इस दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी रही।

इस विरोध मार्च का नेतृत्व संयुक्त हिंदू संघर्ष समिति के कानूनी सलाहकार कुलभूषण भारद्वाज ने किया। शुक्रवार के मार्च में आरएसएस और भाजपा के पूर्व नेता नरेंद्र सिंह पहाड़ी शामिल थे, जिन्होंने धर्म परिवर्तन का आरोप लगाते हुए पिछले हफ्ते पटौदी के एक स्कूल में क्रिसमस की पूर्व संध्या समारोह को बाधित करने वाले समूह का नेतृत्व किया था।

ज्ञात रहे कि संयुक्त हिंदू संघर्ष समिति-हरियाणा के प्रदेश अध्यक्ष महावीर भारद्वाज, ने भी विरोध प्रदर्शन में भाग लिया। उन्होंने हरिद्वार में 'धर्म संसद' में भी भाग लिया था, जहां कालीचरण सहित कई प्रतिभागियों ने अभद्र भाषा का प्रयोग किया था।

उल्लेखनीय है कि मार्च के दौरान, "नाथूराम गोडसे अमर रहे" और "गोडसे ने राष्ट्र को बचाया", और हिंसा के आह्वान के नारे लगाए।

डीसी के कार्यालय में राष्ट्रपति को संबोधित एक ज्ञापन सौंपा गया है जिसमें कालीचरण की "तत्काल रिहाई" की मांग की गई है।

भारद्वाज ने कहा कि, हम संत कालीचरण द्वारा (महात्मा) गांधी के खिलाफ की गई टिप्पणी का पुरजोर समर्थन करते हैं और निंदा करते हैं कि छत्तीसगढ़ सरकार ने उन्हें कैसे गिरफ्तार किया।

जब धर्म के आधार पर देश का विभाजन हुआ तो (महात्मा) गांधी ने इसका विरोध क्यों नहीं किया? देश के विभाजन को स्वीकार करने में उनकी भूमिका के लिए यह देश (महात्मा) गांधी को कभी माफ नहीं करेगा। हिंदू समाज जाग गया है और हम अपने संतों का कोई अपमान स्वीकार नहीं करेंगे।

भारद्वाज को 2020 में पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए भाजपा से निलंबित किया गया था।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*