?>

कृषि क़ानून फिर से लाए जाएंगेः तोमर

कृषि क़ानून फिर से लाए जाएंगेः तोमर

भारत के कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि कृषि क़ानून फिर लाए जाएंगे।

नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि कृषि क़ानूनों की वापसी से सरकार निराश नहीं है।  उन्होंने कहा कि हम एक क़दम पीछे हटे हैं और फिर आगे बढ़ेंगे।

एक समारोह में कृषि मंत्री तोमर का कहना था कि कृषि क़ानूनों को निरस्त करने के बावजूद हमारी सरकार इससे निराश नहीं है।  उनका कहना था कि किसानों के हित में यह क़ानून फिर लाए जाएंगे।

इसी बीच भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि अगर सरकार किसानों की मांगों को पूरी तरह से नहीं मानती तो किसाना आन्दोलन फिर आरंभ हो जाएगा।  उन्होंने कहा कि किसान आन्दोलन अभी समाप्त नहीं हुआ है।टिकैत ने कहा कि किसान अभी केवल 4 महीनों की छुट्टी पर गए हैं।

किसान नेता टिकैत के अनुसार 15 जनवरी को हमारी बैठक होने जा रही है।  हम इस बात को साफ कर देना चाहते हैं कि हमारा आन्दोलन समाप्त नहीं हुआ है बल्कि यह स्थगित हुआ है।  उन्होंने बताया कि सरकार ने केवल तीन कृषि क़ानूनों को वापस लिया है और हमारी दूसरी मांगों को अभी माना नहीं गया है।  अगर समय पर सरकार ने हमारी मांगों को नहीं माना तो किसान आन्दोलन दुबारा होगा।

दूसरी ओर भारत के कृषि मंत्री तोमर के बयान में पर कांग्रेस के नेता सुरजेवाला ने कहा कि किसान विरोधी षडयंत्र का पर्दाफाश हो चुका है।  रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि चुनाव के बाद किसानों पर फिर से हमला होगा।  उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री जी कृषि क़ानूनों पर माफ़ी मांगते हैं जबकि हमारे कृषि मंत्री उन्हीं क़ानूनों को सही बताते हुए उनको फिर से लाने की बात कहते हैं।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*