?>

काबुल पर क़ब्ज़े के बाद तालिबान का पहला फ़तवा, लड़कियों और लड़कों की क्लासें अलग-अलग हों

काबुल पर क़ब्ज़े के बाद तालिबान का पहला फ़तवा, लड़कियों और लड़कों की क्लासें अलग-अलग हों

अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान ने अपने क़ब्ज़े के बाद महिलाओं के अधिकारों के सम्मान का वादा किया था, लेकिन अभी एक हफ़्ता भी नहीं गुज़रा था कि हेरात के स्कूलों और विश्वविद्यालयों में लड़कियों और लड़कों के एक साथ क्लास में बैठने पर प्रतिबंध लगाने का एलान कर दिया।

द वीक की रिपोर्ट के मुताबिक़, यह फ़ैसला अध्यापकों और तालिबान अधिकारियों के बीच एक संयुक्त बैठक के बाद लिया गया है।

20 साल बाद, काबुल पर फिर से तालिबान के क़ब्ज़े के बाद यह पहला फ़तवा है, जो महिलाओं की शिक्षा को लेकर जारी किया गया है।

पिछले मंगलवार को तालिबान के प्रवक्ता ज़बीहुल्लाह मुजाहिद ने अपनी पहली ही प्रेस कांफ्रेंस में इस्लामी शरीयत के दायरे में महिलाओं के अधिकारों के सम्मान का एलान किया था, जिससे लग रहा था कि अपने पूर्व शासन के विपरीत तालिबान इस बार थोड़ा उदारवादी रवैया अपनायेंगे।

उच्च शिक्षा विभाग के लिए तालिबान के प्रमुख मुल्लाह फ़रीद ने कहा है कि को-एजुकेशन या लड़के और लड़कियों की संयुक्त क्लासें तुरंत रूप से बंद होनी चाहिए। इसी तरह से महिला अध्यापक सिर्फ़ लड़कियों को ही पढ़ा सकती हैं।

एक अंदाज़े के मुताबिक़, हेरात के विश्वविद्यालों में 40,000 छात्र और 2,000 अध्यापक हैं।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*