?>

कहीं अफ़ग़ानिस्तान को अशांत बनाए रखने के लिए तो नहीं अमरीका ने वहां छोड़े हथियार?

कहीं अफ़ग़ानिस्तान को अशांत बनाए रखने के लिए तो नहीं अमरीका ने वहां छोड़े हथियार?

अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान के हाथ जो अमरीकी हथियार लगे हैं उनकी क़ीमत अरबों डालर में बताई जा रही है।

एक अमरीकी सीनेटर का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान के हाथ जो अमरीकी हथियार लगे हैं उनकी क़ीमत कम से कम 85 अरब डाॅलर है।  इस समय यह हथियार तालेबान के क़ब्ज़े में आ चुके हैं।

अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन इस बात को पहले ही स्वीकार कर चुके हैं कि काफ़ी मात्रा में अमरीकी हथियार, अब तालिबान के हाथ लग गए हैं।  उनका कहना था कि इसमें वे हथियार भी शामिल हैं, जो अफ़ग़ान सेना के लिए थे।

व्हाइट हाउस में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए सुलिवन ने बताया था कि हमारे पास स्पष्ट रूप से पूरी जानकारी तो नहीं है कि यह सभी हथियार कहां गए, लेकिन निश्चित रूप से इसका एक बड़ा हिस्सा तालिबान के हाथ लग चुका है।

बताया गया है कि तालेबान के हाथ जो अमरीकी हथियार लगे हैं उनमें 200 हैलिकाप्टर, 2000 बक्तरबंद गाड़ियां, विभिन्न प्रकार की 6 लाख 75 हज़ार बंदूक़े और अन्य प्रकार के हथियार हैं।  जानकारों का कहना है कि एसा संभव नहीं है कि इतनी आसानी से अमरीकी हथियार, किसी दूसरे के हाथ नहीं लग सकते।

बहुत से राजनैतिक टीकाकारों का मानना है कि हो सकता है कि अफ़ग़ानिस्तान को अशांत बनाए रखने के लिए यह अमरीकी चाल भी हो सकती है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*