?>

ईरान विरोधी प्रस्ताव के बाद ईरानी और रूसी राष्ट्रपतियों की अहम बातचीत

ईरान विरोधी प्रस्ताव के बाद ईरानी और रूसी राष्ट्रपतियों की अहम बातचीत

इस्लामी गणतंत्र ईरान और रूस के राष्ट्रपतियों ने अपनी टेलीफ़ोनी वार्ता के दौरान परस्पर सहयोग, क्षेत्र के महत्वपूर्ण मुद्दों, विएना वार्ता और परमाणु समझौते के बारे में महत्वपूर्ण चर्चा की।

इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति सैयद इब्राहीम रईसी और रूस के राष्ट्रपति विलादीमीर पुतीन ने अपनी टेलीफ़ोनी वार्ता में परमाणु समझौते को पूर्ण रूप से लागू करने और संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 2231 पर पूरी तरह अमल करते हुए विएना वार्ता को किसी परिणाम तक पहुंचाने कोशिशों पर बल दिया।

दोनों देशों के राष्ट्रपतियों ने परस्पर सहयोग के विस्तार के संबंध में संबंधों की मज़बूती और आर्थिक व व्यापारिक क्षेत्रों में संयुक्त योजनाओं को लागू किए जाने पर बल दिया।

ईरान और रूस के राष्ट्रपतियों ने क्षेत्रीय शांति व स्थिरता पर वार्ता करते हुए आस्ताना शांति वार्ता प्रक्रिया के अंतर्गत अधिक सक्रियता से सीरिया के मुद्दे के समाधान पर बल दिया।

इस अवसर पर इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति ने कुछ देशों की ओर से आईएईएस के बोर्ड आफ़ गवर्नज़ में ईरान विरोधी प्रस्ताव पास करने के बारे में होने वाले प्रयासों की ओर करते हुए कहा कि ईरान सारे स्वतंत्र देशों के साथ व्यापक संबंधों का विस्तार चाहता है और आईएईए ने बारम्बार अपनी रिपोर्टों में कहा है कि ईरान का परमणु कार्यक्रम शांतिपूर्ण है और यह पथभ्रष्ट नहीं है इसीलिए अब अमरीका की ज़िम्मेदारी है कि वह फ़ैसला करे।

इस अवसर पर रूस के राष्ट्रपति विलादीमीर पुतीन ने तबस- यज़्द यात्री ट्रेन के दुर्घटनाग्रस्त होने पर ईरान और ईरानी राष्ट्र को सांत्वना दी और कहा कि हम ईरानी भाईयों के दुख में बराबर के भागीदार हैं।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*