?>

ईरानी सेना इतनी मज़बूत हो चुकी है कि दुश्मन हमला करने के बारे में सोच भी नहीं सकेगा, ईरानी कमांडर

ईरानी सेना इतनी मज़बूत हो चुकी है कि दुश्मन हमला करने के बारे में सोच भी नहीं सकेगा, ईरानी कमांडर

एक वरिष्ठ ईरानी कमांडर ने कहा है कि ईरानी सशस्त्र बलों ने विभिन्न क्षेत्रों में अच्छी प्रगति की है, जिसकी वजह से वर्तमान में ईरान एक बड़ी सैन्य ताक़त बनकर उभरा है।

समन्वय के लिए ईरानी सेना के उप प्रमुख रियर एडमिरल हबीबुल्लाह सैय्यारी ने रविवार को ईरानी राजधानी तेहरान में एक सैन्य समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि सेना कभी भी किसी को देश की अखंडता और राष्ट्रीय हितों के ख़िलाफ़ क़दम उठाने की अनुमति नहीं देगी।

उन्होंने कहा कि सशस्त्र बलों का एक ही मिशन है, और वह है इस्लामी क्रांति और इस्लामी व्यवस्था की रक्षा करना।

सैय्यारी का कहना था कि ईरानी सशस्त्र बलों को भविष्य में किसी भी ख़तरे का सामना करने के लिए अपनी युद्ध क्षमता को इस तरह से मज़बूती प्रदान करनी चाहिए कि वे पूरे आत्मविश्वास के साथ घोषणा कर सकें कि किसी भी दुश्मन को देश के हितों और क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

ईरान के सीनियर कमांडर ने देश की प्रतिरोधक शक्ति को अधिक मज़बूत बनाने के महत्व पर भी ज़ोर दिया।

उन्होंने कहाः अगर हम मज़बूत हैं और उच्च निवारक शक्ति रखते हैं, तो दुनिया इस्लामी गणराज्य पर एक क्रांतिकारी राष्ट्र के रूप में गर्व और भरोसा करेगी।

सैय्यारी ने आगे कहाः हमारी प्रतिरोधक शक्ति इतनी अधिक होनी चाहिए और हमारे पास ऐसे आधुनिक उपकरण और शानदार प्रशिक्षण होना चाहिए कि दुश्मन कभी भी हमारे देश पर हमले के बारे में सोच नहीं सके।

इस्लामी रिपब्लिक का कहना है कि उसकी सेना अन्य देशों के लिए ख़तरा नहीं है, और उसका रक्षा सिद्धांत सिर्फ़ निवारक क्षमता पर आधारित है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*