?>

इराक़ में युद्ध की आग भड़काने से यूएई को 13 अरब डॉलर का फ़ाएदा

इराक़ में युद्ध की आग भड़काने से यूएई को 13 अरब डॉलर का फ़ाएदा

इराक़ में "नोजबा" आंदोलन के प्रवक्ता ने इराक़ी सरकार और संयुक्त अरब इमारात के मध्य व्यापारिक लेनदेन पर टीका टिप्पणी की है।

नस्र अशम्मरी ने व्यापारिक संगठन OEC की रिपोर्ट के आधार पर संयुक्त अरब इमारात के साथ व्यापार को प्राथमिकता देने को इराकी सरकार की नीति पर टीका- टिप्पणी की।

अशम्मरी ने कहा कि इराक जो चीज़ें संयुक्त अरब इमारात को निर्यात करता है उनमें से अधिकांश तेल से बनती हैं और उनका मूल्य 1 दशमलव 27 अरब डॉलर है और इराक इमारात से जो चीज़ें आयात करता है उनमें से अधिकांश चीज़ें सेटेलाइट से संबंधित हैं और उनकी कीमत 13 दशमलव सात अरब डालर है यानी 12 दशमलव 43 अरब डॉलर संयुक्त अरब इमारात के हित में है।

उन्होंने कहा कि इराक में होने वाले आयात-निर्यात ने भी दर्शा दिया है कि इसके बिना कि एक छोटा सा देश इमारात उत्पादक होने के बजाये इराक को चीज़ें निर्यात करके 13 अरब डॉलर मुनाफ़ा कमा रहा है। नोजबा आंदोलन के प्रवक्ता ने कहा कि अगर आप किसी देश के साथ कई अरब डॉलर का व्यापारिक लेनदेन कर रहे हैं तो उस देश को आपके देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने से परहेज़ करना चाहिये। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*