?>

आप हमारे यहां आने का कष्ट न कीजिएः जर्मनी की शरणार्थियों से दो टूक

आप हमारे यहां आने का कष्ट न कीजिएः जर्मनी की शरणार्थियों से दो टूक

जर्मनी ने पोलैण्ड और बेलारूस के सीमावर्ती क्षेत्र में पर फंसे शरणार्थियों को अपने यहां स्वीकार करने से इन्कार कर दिया है।

पोलैण्ड की सीमा पर कड़ाके की ठंड और भूख-प्यास का सामना कर रहे शरणार्थियों के लिए जर्मनी का साफ संदेश यह है कि आप हमारे यहां आने का कष्ट न कीजिए।

जर्मनी के विदेशमंत्री ने अपने यहां इन शरणार्थियों के प्रवेष का खुलकर विरोध किया है।  श्पेगल के अनुसार हाइको मास ने बर्सल्ज़ में युरोपीय संघ के अपने समकक्षों से विचार-विमर्श के बाद कहा है कि मेरा यह कहना है कि वे लोग जो सीमाओं पर जमावड़ा किये हुए हैं उनको, उनके देशों को वापस कर दिया जाए।

जर्मनी के विदेशमंत्री ने शरणार्थियों को स्वीकार करने की मांग पर कहा कि यह महत्वपूर्ण विषय है और लोगों को निराधार बहानों से राजनीतिक हथकण्डा नहीं बनना चाहिए।

उधर पोलैण्ड भी अपनी सीमा पर एकत्रित शरणार्थियों के बारे में नीतियों को लगातार कठोर करता जा रहा है।  बेलारूस के मार्ग से शरणार्थियों की संख्या में वृद्धि के बाद पोलैण्ड और लिथवानिया ने अपनी सीमाओं पर आपात स्थिति की घोषणा कर दी है।

खेद की बात यह है कि मानवाधिकारों का ढिंढोरा पीटने वाले यूरोपीय देश, शरणार्थियों के संकट के समाधान के उद्देश्य से कोई मार्ग तलाश करने के बजाए इन बेचारों के ख़िलाफ कार्यवाही में व्यस्त हैं।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*