?>

आज प्रतिरोध पहले से अधिक शक्तिशाली हैः नसरुल्लाह

आज प्रतिरोध पहले से अधिक शक्तिशाली हैः नसरुल्लाह

लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हिज़्बुल्लाह के महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि प्रतिरोध आंदोलन आज पहले से अधिक शक्तशाली है और वह इस्राईल को पाषाणकाल में पहुंचाने की क्षमता रखता है।

उन्होंने 2006 में लेबनान पर इस्राईल द्वारा थोपे गए 33 दिवसीय युद्ध की 13वीं बरसी पर शुक्रवार को अलमनार टीवी चैनल के साथ बात करते हुए कहा कि  पूरा इस्राईल हिज़्बुल्लाह के मीज़ाइल की रेंज में है। सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि पश्चिमी पाबंदियों के बावजूद प्रतिरोध आंदोलन किसी भी समय की तुलना में अधिक मज़बूत स्थिति में है।

सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि प्रतिरोध आंदोलन आज इतना अधिक शक्तिशाली हो गया कि वह इस्राईल को पाषाण युग में पहुंचाने की क्षमता रखता है। उन्होंने कहा कि जैसा कि हम कह चुके हैं कि हम दक्षिणी हैफ़ा तक अपने लक्ष्य को निशाना बना सकते हैं। सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि अब हमारे पास एसे एसे मीज़ाइल हैं जो 2006 में नहीं थे। श्री नसरुल्लाह ने कहा कि  हमारे पास बड़े व शक्तिशाली ड्रोन विमान भी हैं।

हिज़्बुल्लाह से अमरीका की असली दुश्मनी का मुख्य कारण यह है कि हिज़्बुल्लाह, लेबनान को वाशिंग्टन पर निर्भर होने के मार्ग में सबसे बड़ी रुकावट है और दूसरी ओर हिज़्बुल्लाह के शक्तिशाली होने से इस्राईल की चिंता बढ़ गयी है। 

यही कारण है कि अमरीका ने न केवल हिज़्बुल्लाह को ब्लैक लिस्ट कर दिया है बल्कि हिज़्बुल्लाह के कुछ सांसदों को भी अपनी ब्लैक लिस्ट में शामिल कर लिया है। इसी परिप्रेक्ष्य में सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि हिज़्बुल्लाह 80 के दशक से अमरीका के प्रतिबंधों की सूची में शामिल है और अमरीकी प्रतिबंधों के बावजूद प्रतिरोध पहले से अधिक शक्तिशाली हो गया है। 

सैयद हसन नसरुल्लाह ने अपने बयान में ईरान और अमरीका के बीच तनाव की ओर भी संकेत किया और कहा कि अमरीकी प्रतिबंधों के बावजूद ईरानी सरकार और जनता, वाशिंग्टन के सामने घुटने टेकने वाली नहीं है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*