?>

अमरीका, क्षेत्रीय राष्ट्रों से ईरान के संबन्धों को समाप्त करना चाहता हैः हिज़बुल्लाह

अमरीका, क्षेत्रीय राष्ट्रों से ईरान के संबन्धों को समाप्त करना चाहता हैः हिज़बुल्लाह

हिज़बु्ल्लाह का मानना है कि प्रतिबंधों के माध्यम से अमरीका, क्षेत्रीय राष्ट्रों से ईरान के संबन्धों को समाप्त करना चाहता है।

हिज़बुल्लाह के उप महासचिव शेख नईम क़ासिम ने कहा है कि इस्लामी गणतंत्र ईरान पर प्रतिबंधल लगाकर अमरीका, क्षेत्रीय राष्ट्रों से ईरान के संबन्धों को समाप्त करने की कोशिश कर रहा है।

लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आन्दोलन हिज़बुल्लाह के उप महासचिव ने एक कांफ़्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि ईरान के विरुद्ध अमरीका के प्रतिबंध, आर्थिक लक्ष्यों के साथ राजनीतिक शत्रुता है।  उन्होंने कहा कि हिज़बुल्लाह के विरुद्ध अमरीकी प्रतिबंध भी हिज़बुल्लाह के सफल क़्रियाकलापों के कारण हैं।  नईम क़ासिम का कहना था कि हमारे कड़े प्रतिरोध के कारण ही एसा हुआ है।

हिज़बुल्लाह के उप महासचिव ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बारे में पश्चिमी के तथाकथित दावों की ओर संकेत करते हुए इस बारे में फ़्रांसीसी राष्ट्रपति के क्रियाकलापों की ओर संकेत किया।  उन्होंने कहा कि मैक्रां ने अज्ञानता के मार्ग का चयन किया है।  उन्होंने इस कांफ़्रेंस में अवैध ज़ायोनी शासन के साथ कुछ अरब देशों के संबन्धों के सामान्य किये जाने के बारे में कहा कि इस प्रकार का काम देशों के संसाधनों को लूटने और उनपर अपना वर्चस्व स्थापित करने की भूमिका है।

शेख नईम क़ासिम ने अपने संबोधन में इस्लामी जगत मेंं एकता बनाए रखने पर बल दिया।  उन्होंने कहा कि इस्लामी एकता, पूरे विश्व के मुसलमानों के एकजुट होने का कारण बनेगी।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*