?>

अमरीका को ऐसी चोट पहुंचाई है, जिसके बाद वह कभी अफ़ग़ानिस्तान का रुख़ नहीं करेगा, तालिबान

अमरीका को ऐसी चोट पहुंचाई है, जिसके बाद वह कभी अफ़ग़ानिस्तान का रुख़ नहीं करेगा, तालिबान

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के प्रवक्ता ज़बीहुल्लाह मुजाहिद का कहना है कि हमने अमरीका से ऐसा बदला लिया है, जिसे वह कभी नहीं भुला पाएगा।

अल-मयादीन टीवी चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक़, ज़बीहुल्लाह मुजाहिद का कहना था कि हमने  वाशिंगटन को ऐसा जवाब दिया है, जिसे वह कभी नहीं भुला सकेगा, यही वजह है कि वह फिर कभी अफ़ग़ानिस्तान का रुख़ करने की हिम्मत नहीं करेगा।

ग़ौरतलब है कि नाइन इलेवन की घटना के बाद 2001 में अमरीका ने आतंकवाद से लड़ाई के दावे के साथ अफ़ग़ानिस्तान पर सैन्य चढ़ाई कर दी थी और तालिबान की हुकूमत को उखाड़ फेंका था, लेकिन तालिबान लगातार संघर्ष करते रहे, जिसके कारण अमरीका उनसे समझौता करने पर मजबूर हो गया और अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने 11 सितम्बर से पहले अमरीकी सैनिकों को अफ़ग़ानिस्तान से बाहर निकालने का एलान कर दिया।

इसे दुनिया भर में तालिबान के मुक़ाबले में अमरीका की बड़ी हार के तौर पर देखा गया और ख़ुद अमरीका के सहयोगी देशों ने इस तरह से पीठ दिखाकर भागने के लिए बाइडन प्रशासन की आलोचना की।

तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद सभी विदेशी सैनिकों को 31 अगस्त तक मुल्ल से निकल जाने का अल्टीमेटम दे दिया है।

दुनिया की बड़ी ताक़तों को धूल चटाने और युद्ध के मैदान से उनके पैर उखाड़ देने से तालिबान का मनोबल काफ़ी ऊंचा है और वे देश में एक मज़बूत सरकार के गठन का दावा कर रहे हैं। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*