?>

अफ़ग़ानिस्तान के हालात अचानक बदले, भारतीय दूतावास ने जारी की एडवाइज़री, क्रिकेटर राशिद ख़ान की दुनिया से मार्मिक अपील

अफ़ग़ानिस्तान के हालात अचानक बदले, भारतीय दूतावास ने जारी की एडवाइज़री, क्रिकेटर राशिद ख़ान की दुनिया से मार्मिक अपील

भारत सरकार ने अफ़ग़ानिस्तान में रह रहे भारतीय नागरिकों के लिए सुरक्षा एडवाइज़री जारी की है।


काबुल दूतावास द्वारा 10 अगस्त को जारी एडवाइज़री में अफ़ग़ानिस्तान में रह रहे सभी भारतीयों को कमर्शियल फ्लाइट्स की उपलब्धता को लेकर अपडेट रहने की सलाह दी गई है और लोगों से कहा गया है कि उनके क्षेत्र में हवाई सेवा बंद होने से पहले भारत लौटने की व्यवस्था कर लें।

अफगानिस्तान में बढ़ रही हिंसा को लेकर भारत सरकार ने तीसरी बार सुरक्षा एडवाइज़री जारी की है। इससे पहले 29 जून और 24 जुलाई को भी भारत सरकार ने सुरक्षा एडवाइज़री जारी की थी।

अफ़ग़ानिस्तान में काम कर रही भारतीय कंपनियों को हवाई यात्रा सेवाओं के बंद होने से पहले अफगानिस्तान में प्रोजेक्ट साइट्स से भारतीय कर्मचारियों को तुरंत वापस लेने की सलाह दी गई है। विदेशी कंपनियों के साथ काम कर रहे कर्मचारियों को सलाह दी गई है कि वह अपने नियोक्ता से कहें कि जल्द से जल्द उन्हें भारत भेजने में मदद करें।

मीडिया से जुड़े लोगों को सलाह दिया गया है कि अफगानिस्तान में काम रहे भारतीय मीडियाकर्मी ब्रीफिंग के लिए दूतावास के सार्वजनिक मामलों और सुरक्षा विंग के साथ संपर्क करें। ऐसे में मीडिया के लोग जिस क्षेत्र में यात्रा कर रहे हैं, उन्हें बेहतर सलाह दी जा सकेगी क्योंकि सुरक्षा स्थिति में तेज़ी से बदलाव हो रहे हैं।

दूसरी ओर अफ़ग़ानिस्तान के मशहूर क्रिकेटर राशिद ख़ान ने बड़े ही मार्मिक शब्दों में दुनिया भर के नेताओं से अपील की है कि हमें मरने के लिए न छोड़ें।उन्होंने ट्वीट किया कि दुनिया भर के प्रिय नेताओं। मेरा देश संकट में है, हज़ारों लोग मारे जा रहे हैं। महिलाओं और बच्चों को मौत के घाट उतारा जा रहा है। हर रोज़ हमारे लोग शहीद हो रहे हैं। उन्होंने लिखा कि घरों और संपत्तियों को तबाह किया जा रहा है। हज़ारों लोग अपना घर छोड़कर जाने को मजबूर हैं। ऐसे हालात में हमें अकेला मत छोड़िए, अफ़ग़ान लोगों की हत्याओं और अफ़ग़ानिस्तान को बर्बाद होने से बचा लीजिए, हम शांति चाहते हैं। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*