ख़ुदा का भय

  • News Code : 608935
Brief

बेशक , जिन लोगों को इस से पूर्व ज्ञान दे दिया गया है , जब उन पर आयात का पाठ किया जाता है , तो वे मुंह के बल सजदे में गिर पड़ते हैं , और कहते हैं , कि हमारा रब बड़ा ही पाक व पाकीज़ा है । उस का वादा निश्चित रूप से पूरा हो कर रहेगा , और वे मुंह के बल गिर कर रोते हैं , जिस से उन के ख़ुशू व ख़ुज़ू में वृद्धि होती जाती है

الخَشیَة

ख़ुदा का भय

الکتاب

क़ुरान मजीद

‘‘ اِنَّمَا یَخشَی اللہَ مِن عِبادِہِ العُلَماءُ انَّ اللہَ عَزیزٌ غَفورٌ’’

{ अल्लाह से उस के बन्दों में से ज्ञानी लोग भय खाते हैं । बेशक , अल्लाह अज़ीज़ , ग़फ़ूर व रहीम है । ( सूरह फ़ातिर , आयत संख्या २८ ) }

‘ اِنَّ الَّذینَ اُوتُوا العِلمَ مِن قَبلِہِ اذا یُتلیٰ عَلَیْھِم یَخِرّونَ لِلَٔاذقانِ سُجَّداً * و یَقولونَ سُبحانَ رَبَّنا ان کانَ وَ عدُ ربَّنا لَمَفعولًا* و یَخِرّونَ لِلَٔاذقانِ یَبکونَ و یَزیدُھُم خُشوعًا’’

{ बेशक , जिन लोगों को इस से पूर्व ज्ञान दे दिया गया है , जब उन पर आयात का पाठ किया जाता है , तो वे मुंह के बल सजदे में गिर पड़ते हैं , और कहते हैं , कि हमारा रब बड़ा ही पाक व पाकीज़ा है । उस का वादा निश्चित रूप से पूरा हो कर रहेगा , और वे मुंह के बल गिर कर रोते हैं , जिस से उन के ख़ुशू व ख़ुज़ू में वृद्धि होती जाती है । ( सूरह बनी इसराईल , आयत संख्या १०७ से १०९ }

الحدیث

हदीस शरीफ़

٢١٤رسول اللّٰہؐ : فی وَصِیَّتِہِ لِأَ بی ذَرٍّ : یا أباذَرٍّ، مَن اُوتِیَ مِنَ العِلمِ ما لایُبکیہِ لَحَقِیْقٌ أن یَکونَ قَد اُوتِیَ عِلمًا لا یَنفَعُہُ، لِأَنَّ اللّہَ نَعَتَ العُلَماءَ فَقالَ عَزّ وَجَلَّ: (انَّ الَّذینَ اُوتُوا العِلمَ مِن قَبلِہِ اذا یُتلیٰ عَلَیھِم یَخِرّونَ لِلَٔاذقانِ سُجَّدًا * و یَقولونَ سُبحانَ رَبَّنا ان کانَ وَعدُ ربِّنا لَمَفعولًا * و یَخِرّونَ لِلَٔاذقانِ یَبکونَ و یَزیدُھُم خُشوعًا)

२१४ . रसूले - ख़ुदा ( सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम ) अबू ज़र को वसीयत करते हुए फ़रमाते हैं , "ऐ अबू ज़र , जिस व्यक्ति को ऐसा ज्ञान प्रदान किया गया हो , जो उस को अल्लाह के भय से रुला न सके , तो उस को ऐसा ज्ञान दिया गया है , जो बेकार है , क्यों कि ख़ुदा ने ज्ञानियों की तौसीफ़ करते हुए फ़रमाया है , "बेशक , जिन लोगो को इस से पूर्व ज्ञान दिया गया है , जब उन पर आयतों का पाठ किया जाता है , तो वे मुंह के बल सजदे में गिर पड़ते हैं , और कहते हैं , कि हमारा रब बड़ा ही पाक व पाकीज़ा है , और उस का वादा पूरा होने वाला है । वे मुंह के बल गिर कर रोते हैं , जिस से उन के ख़ुशू व ख़ुज़ू में वृद्धि हो जाती है ।"

 

 

 

٢١٥) عنہؐ:کَفیٰ مِنَ العِلمِ الخَشیَةُ۔

२१५ . रसूले - ख़ुदा ( सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम ) : ज्ञान से ख़ुदा का भय उत्पन्न हो जाए , यही पर्याप्त है ।

٢١٦۔ الامام علیؑ: َسبَبُ  الخَشیَةِ العِلمُ۔

२१६ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : ख़ुदा के भय का कारण ज्ञान है ।

٢١٧۔ عنہؑ: اذا زادَ عِلمُ الرَّجُلِ زادَ أدَبُہُ و تَضاعَفَت خَشیَتُہُ لِرَبِّہِ۔

२१७ .  इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : जितना अधिक व्यक्ति का ज्ञान बढ़ता जाता है , उतना ही अधिक उस के अदब में वृद्धि होती जाती है , और उस के भीतर ख़ुदा का भय भी दो गुना हो जाता है ।

٢١٨۔ عنہؑ: لا عِلمَ کَالخَشیَةِ۔

२१८ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : ( ख़ुदा के ) भय के जैसा कोई ज्ञान नहीं है ।

٢١٩۔ عنہؑ: کَفیٰ بالخَشیَةِ عِلمًا۔

२१९ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : ज्ञान के लिये ( ख़ुदा का ) भय पर्याप्त है ।

٢٢٠۔ عنہؑ: حَسبُکَ مِنَ العِلمِ أن تَخشَی اللہ عزّ وجلّ، و حَسبُکَ مِنَ الجَہلِ أن تُعجَبَ بِعَقلِکَ۔ أو قالَ: بِعِلمِکَ۔

२२० . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : तुम्हारे ज्ञान के लिये यही पर्याप्त है , कि तुम अपने मन में ख़ुदा का भय रखो , और तुम्हारी जिहालत के लिये यही पर्याप्त है , कि तुम अपनी बुद्धि या ज्ञान ( रिवायत करने वाले की ओर से सन्देह है ) पर प्रसन्न हो जाओ ।

٢٢١۔ عنہؑ: غایِةُ المَعرِفَةِ الخَشیَةُ۔

२२१ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : मारिफ़त की अन्तिम सीमा ख़ुदा का भय है ।

 

٢٢٢۔ عنہؑ: أعلَمُکُم أخوَفُکُم۔

२२२ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : तुम लोगों में सब से बड़ा ज्ञानी वह है , जो अपने मन में सब से अधिक  ( ख़ुदा का ) भय रखता हो ।

٢٢٣۔ عنہؑ: کُلُّ عالِمٍ خائفٌ۔

२२३ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : ख़ुदा के भय

इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : प्रत्येक ज्ञानी व्यक्ति अपने मन में ख़ुदा का भय रखता है ।

٢٢٤۔ عنہؑ: أعظَمُ النّاسِ عِلمًا أشَدُّھُم خَوفًا لِلّہِ سُبحانَہُ۔

२२४ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : लोगों में सब से बड़ा ज्ञानी वह है , जो उन में ख़ुदा का भय सब से अधिक रखने वाला है ।

٢٢٥۔ عنہؑ: غایَةُ العِلمِ الخَوفُ مِنَ اللّٰہِ سُبحانَہُ۔

२२५ . इमाम अली ( अलैहिस्सलाम ) : ज्ञान की अंतिम सीमा ख़ुदा  का भय है ।

٢٢٦ الامام زین العابدینؑ: سُبحانَکَ! أخشیٰ خَلقِکَ لَکَ أعلَمُھُم بِکَ، و أخضَعُھُم لَکَ أعمَلُھُم بِطاعَتِکَ، و أھوَنُھُم عَلَیکَ مَن أنتَ تَرزُقُہُ و ہُوَ یَعبُدُ غَیرَکَ!

२२६ . इमाम सज्जाद ( अलैहिस्सलाम ) : ऐ परवरदिगार , तू पाक व पाकीज़ा है । तेरे द्वारा बनाए गए सभी जीवधारियों में सब से अधिक तेरा भय रखने वाला व्यक्ति वह है , जो तेरी मारिफत सब से अधिक रखता है , और तेरे समक्ष उन में सब से अधिक झुका हुआ वह व्यक्ति है , जो सब से अधिक तेरी इताअत करने वाला है , और उन में सब से अधिक नीचा व तुच्छ व्यक्ति वह है , जिस को तू भोजन पहुंचाता है , और वह तेरे अतिरिक्त किसी अन्य की इबादत करता है ।

 ٢٢٧الامام الصادقؑ: کَفیٰ بِخَشیَةِ اللہِ عِلمًا، و کَفیٰ بِالا غِتِرارِ بِہِ جَھلًا۔

२२७ . इमाम सादिक़ ( अलैहिस्सलाम ) : ज्ञान से ख़ुदा का भय उत्पन्न हो जाए , तो इतना ही पर्याप्त है , और ज्ञान से लापरवाही ही जिहालत के लिये पर्याप्त है ।

٢٢٨عنہؑ: انَّ أعلَمَ النّاسِ بِاللہِ  أخوَفُھُم لِلّٰہِ، و أخوَفُھُم لَہُ أعلَمُھُم بِہِ، و أعلَمُھُم بِہِ أزھدُھُم فیھا۔

२२८ . इमाम सादिक़ ( अलैहिस्सलाम ) : बेशक , लोगों में सब से अधिक ख़ुदा की मारिफ़त रखने वाला व्यक्ति वह है , जो उस से बहुत अधिक भय रखता है , और सब से अधिक भयभीत व्यक्ति वह है , जो सब से अधिक उस के सम्बन्ध में ज्ञान रखता है , और उस के सम्बन्ध में सब से अधिक ज्ञान रखने वाला व्यक्ति वह है , जिस को संसार का मोह सब से कम है ।

٢٢٩فی مِصباحِ الشَّریعَةِ قالَ الصّادقؑ: نَجوَی العارِفینَ تَدورُ عَلیٰ ثَلاثَةِ اُصولٍ: الخَوفِ، والرَّجاءِ، والحُبِّ۔ فَالخَوفُ فَرعُ العِلمِ، و الرَّجاءُ فَرعُ الیَقینِ، والحُبُّ فَرعُ المَعرِفَةِ۔

२२९ . मिस्बाहुश्शरीया में इमाम जाफ़र सादिक़ ( अलैहिस्सलाम ) इरशाद फ़रमाते हैं , "मुनाजाते - आरिफ़ीन के तीन नियम हैं , पहला , भय , दूसरा , आशा , तीसरा , प्रेम । भय ज्ञान की शाखा , आशा विश्वास की शाखा , और प्रेम मारिफ़त की शाखा है ।"

٢٣٠أیضاً: الخَشیَةُ میراثُ العِلمِ، والعِلمُ شُعاعُ المَعرِفَةِ و قَلبُ الٔایمانِ، و مَن حُرِمَ الخَشیَةَ لا یَکونُ عالِمًا و ان شَقَّ الشَّعرَ بِمُتَشابِھاتِ العِلم۔

२३० . मिस्बाहुश्शरीया में ही इमाम जाफ़र सादिक़ ( अलैहिस्सलाम ) इरशाद फ़रमाते हैं : ( ख़ुदा का ) भय ज्ञान की मीरास है , और ज्ञान मारिफ़त की किरण और ईमान का हृदय है ।

٢٣١ابنُ عَبّاسٍ العَمِّیّ : بَلَغَی أنَّ داوُدَ النَّبیَّؑ  کانَ یَقولُ فی دُعاءہِ: سُبحانَکَ اللّٰھُمَّ أنتَ رَبّی، تَعالَیت فَوقَ عَرشِکَ و جَعَلتَ خَشیَتَکَ عَلیٰ مَن فِی السَّماواتِ و الَٔارضِ، فَأَقرَبُ خَلقِکَ مِنکَ مَنزِلَةً أشَدُّھُم لَکَ خَشیَةً، و ما عِلمُ مَن لَم یَخشَکَ؟! و ما حِکمَةُ مَن لَم یُطِع أمرَکَ ؟!۔

२३१ . : इब्ने अब्बास ( का बयान है ) : मुझ को यह सूचना मिली है , कि हज़रत दाऊद ( अलैहिस्सलाम ) दुआओं में यह कहा करते थे , कि ऐ परवरदिगारे - आलम , तू पाक व पाकीज़ा है । तू ही मेरा पालने वाला है । तू उच्च रुतबे वाला तथा अर्श व कुर्सी से उच्च स्थान पर है । तू ने धरती व आकाश वालों के हृदयों में अपना भय डाल दिया है । तमाम जीवधारियों में तेरे सब से अधिक निकट वह है , जो अपने हृदय में सब से अधिक तेरा भय रखता है । वह कैसा ज्ञानी व्यक्ति है , जो तेरा भय नहीं रखता , और वह कैसा हिकमत वाला व्यक्ति जो तेरा फ़रमांबरदार नहीं है !


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

*शहादत स्पेशल इश्यू*  शहीद जनरल क़ासिम सुलैमानी व अबू महदी अल-मुहंदिस
conference-abu-talib
We are All Zakzaky