शैख़ ईसा क़ासिम ने कहा कि वह बहरैन से नहीं निकलेंगे।

  • News Code : 762477
  • Source : तेहरान रेडियो
Brief

बहरैन के वरिष्ठ धर्म शैख़ ईसा क़ासिम ने कहा है कि वह देश से नहीं निकलेंगे।

बहरैन के वरिष्ठ धर्म शैख़ ईसा क़ासिम ने कहा है कि वह देश से नहीं निकलेंगे।
बहरैन के शिया वरिष्ठ धर्म गुरू शैख़ ईसा क़ासिम ने घोषणा की है कि वह देश से निकलने के लिए आले ख़लीफ़ा शासन के साथ किसी भी प्रकार की मध्यस्थता के विरोधी हैं। कहते हैं कि बहरैन सरकार ने इस देश के वरिष्ठ धर्म गुरू शैख़ ईसा क़ासिम की नागरिकता समाप्त कर दी है। आले ख़लीफ़ा शासन की यह कार्यवाही नागरिक अधिकारों का खुला उल्लंघन समझी जाती है और इस पर विश्व स्तर पर प्रतिक्रियाएं निरंतर आ रही हैं। शैख़ ईसा क़ासिम की नागरिकता समाप्त करने के फ़ैसले के बाद पूरे देश में प्रदर्शनों का क्रम आरंभ हो गया है।
बहरैन के हज़ारों लोगों ने शुक्रवार की रात दराज़ में व्यापक स्तर पर प्रदर्शन किए। प्रदर्शनकारियों ने बहरैन सरकार से मांग की है कि वह शैख़ ईसा के बारे में अपने फ़ैसले को वापस ले। यह प्रदर्शन ऐसी स्थिति में आयोजित किए गये कि सुरक्षा बलों ने दराज़ क्षेत्र का भीषण परिवेष्टन कर रखा था। प्रदर्शनकारी शैख़ ईसा क़ासिम के घर के सामने एकत्रित हुए और उन्होंने कहा कि वह शैख़ ईसा क़ासिम को किसी भी प्रकार की हानि नहीं होने देंगे। बहरैन के धर्मगुरूओं ने भी सरकार को सचेत किया है कि वह जनता पर अपने अतिक्रमपणों का क्रम बंद करे। प्रत्येक दशा में बहरैन के हालिया परिवर्तन इस बात के सूचक हैं कि इस देश की स्थिति बहुत ही ज्वलंत हो गयी है और शैख़ ईसा क़ासिम की नागरिकता रद्द करने का फ़ैसला, आग में घी का काम करेगा। यही कारण है कि ईरान और दुनिया के विभिन्न देशों ने आले ख़लीफ़ा सरकार को सचेत किया है कि वह अपने इस फ़ैसले पर पुनर्विचार करे नहीं तो बहरैन की जनता दूसरा विकल्प चुनने पर विवश हो जाएगी जो क्षेत्र और इस देश के हित में नहीं होगा।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky